Asopa, R.K. 1950. Marwari Vyakaran. Jaipur: Popular Prakashan

Asopa, R.K. 1950. Marwari Vyakaran. Jaipur: Popular Prakashan

।।श्री गणेशाय नम:।।

ारवाड़ी व्‍याकरण

  1. आपरा मन री व़ात दूजा नैं स़मजावण वास्‍तै जो कोई व़ात मूंडासूं बोलण में आवै वा बोली अर्थात भाषा कहीजै।
  2. मारवाड़ में जो बोली बोली जावै है वा मारवाड़ी भाषा कहीजै।

टिपण-मारवाड़ में पण जुदा जुदा प्रांतां में बोली में कांईक फरक पडै है सो अठै मारवाड़ी भाषा कवण सूं राजधानी री बोली स़मजणी।

  1. भाषा दोय प्रकार री है। 1. शुद्‍ध 2. अशुद्‍ध
  2. जिण सूं मारवाड़ी भासा शुद्‍ध बोलणी ने लिखणी आवै वा मारवाड़ी व्‍याकरण कहीजै।

टिपण1- व्‍याकरण जाणण री हरेक भाषा में अत्‍यन्‍त आवश्‍यकता है, कारण शुद्‍ध बोलणौ ने लिखणौ व्‍याकरण बिना आवै नहीं।

टिपण2- भाषा वाक्‍यां सूं, वाक्‍य शब्‍दां सूं, ने शब्‍द अक्षरा सूं व़णै है। व्‍याकरण में मुख्‍य तीन विषय है। जिणांरो रो अक्षर, शब्‍द ने वाक्‍यां सूं संबंध है।

  1. मारवाड़ी व्‍याकरण में मुख्‍य तीन विषय है।

1. वर्ण विचार

2. शब्‍द विचार

3. वाक्‍य विचार

  1. वर्ण विचार में अकारादि अक्षरां रो आकार (मोड़), उच्‍चारण ने मिलण री रीति व़ताई गई है।
  2. शब्‍द विचार में शब्‍दारा भेद ने विभक्‍तियां रो वर्णन है।
  3. वाक्‍य विचार में शब्‍दा सूं वाक्‍य व़णावण री रीति कही गई है।

                                        वर्ण विचार

  1.  मारवाड़ में जो अक्षर लिखीजै वै मारवाड़ी अक्षर कहीजै।
  2.  अक्षर शब्‍द रा उण खंड (टुकड़ा) रो नांव है जिणरो विभाग (हैसो) नहीं हुय सके।
  3. मारवाड़ी भाषा में अक्षर 52 है। वे दोय प्रकार रा है।

1.स्‍वर

2. व्‍यंजन

टिपण- मारवाड़ी में स्‍वर ने बिलटी ने व्‍यजनां नै कक्‍को कैवै है।

                                            स्‍वर16

        अ. आ. इ. ई. उ.ऊ. [ऋ. ऋ. लृ. लध्‍.] ए. ऐ. ओ. औ. अं. अ:।

                                        व्‍यंजन 36

        क. ख. (ष) ग. घ. ड़. । च. छ. ज. झ. य. । ट. ठ. ड. ढ. ण. ।

        त. थ. द. ध. न. । प. फ. ब. भ. म. । य. र. ल. व. । श. ष. स. स़, ह. ।

    ड़. ळ. व़.

12.         स्‍वर वे अक्षर कहीजै जिणरौ उच्‍चारण किणी दूजा अक्षर री सहायता विना आपसूं ही हुवै ने              

व्‍यंजना रा उच्‍चारण में पण सारो लगावै।

                                               यथा- "अ"

             इण अक्षर रो उच्‍चारण आप ही हूजावै है ने इण नै बोलण में किणी दूजा अक्षर री              

सहायता रो काम नहीं है। इणी तरै दूजा स्‍वंर जाणौ।

13.         व्‍यंजन वे अक्षर कहीजै जिणांरौ उच्‍चारण स्‍वर री सहायता सूं हीज हूसकै।

                                 यथा- “क्‍."

         इण अक्षर रो उच्‍चारण करो तो इणरै साथै "अ" अथवा दूजो कोई स्‍वर जरुर बोलणौ पड़ैला ,         नहीं तो "क्" रो उच्‍चारण कदापि हूसकै नहीं। चाये स्‍वर "क्" रै पैली लगावौ चायै पछै         लगावो। "अक्" अठै "अ" ओ स्‍वर "क्" इण व्‍यंजन रा उच्‍चारण रै वास्‍तै पैली लगायौ गयो         है। "क" अठै "अ" ओ स्‍वर "क्" इणरौ उच्‍चारण रै वास्‍तै पछै लगायौ गयो है। तात्‍पर्य ओ है         कै स्‍वर स़ाथै लगाया विना अकैला व्‍यंजना रो उच्‍चारण हूवै नहीं।

14.         क आदि व्‍यंजनां में स्‍वर नहीं हुवै तो वे हल् कहीजै।

                                         यथा-  क्, च्, प्, इत्यादि।

             हल नै  ओळखण वास्‍तै उणरै नीचै (्) इसो सैनांण कर देवै है।

15.        स्‍वर रै माथली एक बिंदी अनुस्‍वार कहीजै।

                                          यथा- कंस, हंस इत्यादि।

16.        स्‍वर रै माथली चंद्रमा सरीसी आदी बिंदी अनुइनासिक कहीजै।

                                 यथा- हाँस, बाँस, धाँस इत्यादि।

17.        स्‍वररै मूंडा आगली दोय बिंदियां विसर्ग कहिजै.                                                        
        
यथा- प्राय: इत्यादि।

स्‍वर निरुप

18.        मुल स्‍वर पांच है। यथा- अ, इ, उ, ऋ, लृ.

19.        स्‍वरांरा मिलणा सूं च्‍यार संध्‍उक्षर व़णै है.

यथा- ए, ऐ, ओ, औ

टिप्पण- ऐ च्‍यारुं संयुक्त स्‍वर पण कहीजै। कारण दोय दोय स्‍वर जुड़र व़णिया है।

यथा-  अ + इ =ए. अ + ए = ऐ. अ + उ = ओ. अ +ओ =औ.

20.        इणां नवां सिवाय पांच स्‍वर फेर है।

यथा- आ. ई. ऊ. ऋ. लृ.

टिप्पण- 1. ऐ पांचुं पैला मुल स्‍वरांरा सवर्ण अर्थात् जातरा है जिणसूं तौ सवर्ण और उच्चारण में मूल स्‍वरां करतां लंबा बोलीजै जिणसूं दीर्घ स्‍वर कहीजै।

टिप्पण- 2. सौलै स्‍वर इणतरै है- मूल स्‍वर 5- अ. इ. उ. ऋ. लृ। संधयक्षर 4- ए. ऐ. ओ. औ।         सवर्ण 5- आ. ई. ऊ. ऋ.लृ। अनुस्‍वार1 विसर्ग2।

21.        स्‍वररा तीन भेद है। 1. ह्रस्‍व 2. दीर्घ 3. प्लुत।

22.        जिणरा उच्चारण में एक मात्रा अर्थात् आंख टिमकारै जित्तो समय लागै वो ह्रस्‍व     कहिजै।जिणरा यथा- अ. इ. उ. ऋ. लृ।

23.        जिणरा उच्चारण में! दोय मात्रा  अर्थात् दोय वार आंख टिमकारै जित्ती वार लागै वो दीर्घ कहीजै।

यथा-  आ. ई. ऊ. ऋ. लृ. ए. ऐ.ओ. औ. अं. अ:।

24.        जिणरा उच्चारण में तीन मात्रा अर्थात् तीन वार आंख टिमकारै जित्ती वार लागै वो प्लुत कहीजै.

यथा-  अ3. इ3. उ3. ऋ3. लृ3. ए3. ऐ3. ओ3. औ3.

25.        प्लुत स्‍वर घणोखरो हेलो मारण में तथा बुलावण में काम आवै है।

यथा- अरे 3. गवाळिया3 गाय चराव।

प्लुत स्‍वररी ओळखांणरै वास्‍तै उणरै अगाड़ी तीन 3 रो आंक लिखणरी प्रथा है। 'अरे 3 गवाळीया3” अठै 'रे' ने "या" रै अगाड़ी तीन3 रो आंक है जिणसूं "रे" मांयलो "ए" ने "या" मांयलो "आ" प्लुत जांणियो जाय है।

26.        स्‍वरांरा दोय भेद फेर है।1.सानुनासिक 2. निरनुनासिक।

27.        जो स्‍वर मूंडा ने नाक दोनांसूं बोलण में आवै वो सानुनासिक।

यथा- अँ, इँ, इ्त्यादि।

28.        जो स्‍वर केवल मूंडासूं बोलण में आवै वो निरनुनासिक।

यथा- अ. इ. इत्यादि।

29.        स्‍वर रा तीन प्रकार फेर है। 1. अनुदात्त, 2.उदात्त,  3. स्‍वरित।

30.        जो स्‍वर कंठ आदि स्‍थान में नीचो बोलीजै वो अनुदात्त।

यथा- बारै(मांय नहीं) खातो (व़ही)

अठै "आ" रो उच्चारण कठं में नीचो हुवै है जिणसूं दोनुं ठौड़ "आ" अनुदात्त है।

31.        जो स्‍वर कंठ आदि स्‍थान में ऊँचो बोलीजै वो उदात्त।

इणरो चिन्ह स्‍वर रद्व नीचे (-) ओ है।

यथा- बारै (संख्या) खातो (उतावळो).

अठै "आ" रो उच्चारण कंठ मे! ऊंचो हुवै है जिणसूं दोनुं ठौड़ "आ" उदात्त है।

अनुदात्त                        उदात्त

कद (लबांई)                        कद (किण वगत)

सारो (पूरो)                        सारो (थेगी)

जिल्ले (फलांणारे) जिल्ले)        जिल्ले (चमक)

पीर (मुसलमांनां रो देव)                पीर (बापरो घर)

धुर (ऋण लेवण वाळो)                धुर (अनादार बोधक)

गूंद (प्रसिद्ध)                        गूंद (आटो गूंद)

लेव (लेलो)                        लेवो( जीव विशेष)

मोळी        (हलकी)                मोळी (पचरंगो सूत)

खोदो (जमी खोदो)                खोदो (बळद)

32.        (क) जो स्‍वर अनुदात्त और उदात्तरा मिलणसूं समान स्‍वरहुय कठं आदि स्‍थान मेँ लैरै साथे     बोलीजै वो स्‍वरित।

इणरो चिन्ह स्‍वररै नीचै (٧) ओ है। यथा-  

अनुदात्त                        उदात्त                        स्‍वरित

सारो (पूरो)                        सारो(थेगी)                सारो ٧ {(भविष्‍यत् तथा प्रश्‍न)

पाई (पिसारो तीजो हैंसो)}        पाई(कांटांरी)                पाई ٧                 “

धोई (भूतका लिक क्रिया)}        धोई (दुर्जर वस्‍तु)}        धोई ٧                “

खोदो (विधि क्रिया)                खोदो (बळद)                खोदौ ٧        “

33.        ऐकार और औकार रा दूजा स्‍वरां सिवाय दोय प्रकार फेर है। 1. व्‍यक्त 2. अव्‍यक्त।

34.        जिणरो उच्चारण स्‍पष्‍ट हुवै वो व्‍यक्त।

टिप्पण- संस्‍कृत में "ऐ, औ" रो उच्चारण व्‍यक्त है।

यथा- मैनाक। ऐश्‍वर्य, पौत्र, कौतुक।

अठै "ऐ, औ" रो उच्‍चारण स्‍पष्‍ट है जिणसूँ ऐ, औ दोनुं व्‍यक्त है।

35.        जिणरो उच्‍चारण स्‍पष्‍ट नहीं हुवै वो अव्‍यक्त।

टिप्पण- मारवाड़ी में "ऐ ,औ' बहुधा अव्‍यक्त है।

यथा- ऐब (ओगण) भैंस, कैर , पौर (गतवर्ष), मौर (पीठ), अठै "ऐ, औ" दोनुं अव्‍यक्र है।

अभ्‍यासार्थ उदाहरण

अनुदात्त अव्‍यक्त                                उदात्त अव्‍यक्त

मैल [गलीच]                                        सैल [सुगम]

फैल [दंगो]                                        मैल [राजारो]

ऐब [ओगण]                                        नैर [नाळो]

गैर [निदां]                                        लै [अवसर]

भैंस [पशु]                                        तै [ पुड़]

सैंणो [समजदार]                                कैलु [थेपड़ा]

मैंणो [ एक जाति]                                गैणो [ भूषण]

पौर [गत वर्ष]                                        सैर [नगर]

मौर [ पीठ]                                        मौरु [ सोनारी]

टिप्पण- अकासादि स्‍वर जद किणी व्‍यंजन में मिलियां विना आवै है तौ वै स्‍वर कहीजै है, ने स्‍वर लिखिया है जिण रीतसूं हिज लिखण में आवै है।

यथा-  अ. इ. इत्‍यादि।

36.        जद अकारादि स्‍वर व्‍यंजन मेँ मिल जावै है तौ उणांरो स्‍वरुप पलट जावै है ने मात्रा कवण में आवै है.

मात्रारो स्‍वरुप यथा-         

मात्रा (बारखड़ी)

ि

का

की

की

कु

कू

कृ

कृृ

लृ

लृ्

अं

अ:

:

के

कै

को

कौ

कं

क:

                                

37.        व्‍यंजना रा सात 7 विभाग है। 1. कवर्ग 2. चवर्ग 3. टवर्ग 4. तवर्ग 5. पवर्ग 6. अंत:स्‍थ7. ऊष्‍म

व्‍यंजनरी आधि मात्रा है।

मारवाड़ी  में ड, ळ, व, ढ़, ध, ऐ, पाँच व्‍यंजन व़त्ता है, जिणांरो उच्चारण भिन्न दिखायो जावै है।

खोडो [धान घालणरो खोडो] खोड़ो [लंगड़ो]

माल [धन]                        माळ [अरठरी माळ और केस]

वार [डांव] बार [ बारणो] व़ार [चोररै लारै चडणो]

“ढ" और "ध़" रो उच्चारण "ढ़" और "ध" सूं विलक्षण है। क्यूंकै "ढ़" रो उच्चारण करती बगत जीभनैं "ढ" रा स्‍थान सूं थोड़ो ऊंची मांयली तर्फ लेजावणी।

यथा-  

ढ़- ढ़ेढ़, ढ़ांढ़ो, ढ़ंढ।         ढ- ढील, ढोल।

“ध़" रो उच्चारण करती बगत जीभनैं "ध" रा स्‍थान सूं थोड़ी ऊंची मांयली तर्फ लेजावणी।

यथा-

ध़- ध़ँणी, ध़ंध़ो, ध़ाध़ल.                ध- धन, धान।

chart is mis

38.        दोय आदि व्‍यंजन भेळा हुवै सो संयोग  कहीजै।

यथा- व्‍याव, स्‍त्री इत्यादि।

व्‍याव अठै  व् + य् इणा दोय व्‍यंजनारो संयोग   है।

स्‍त्री अठै  स् + त्+र, इणाँ तीन व्‍यंजनारो संयोग   है।

टिप्पण- बहुधा लिखण मे संयोग   रा व्‍यंजनारो रुप जुदो- जुदो दीस जावै है।

पण क्ष. त्र. ज्ञ. इणां   संयुक्त    अक्षरां   में  उणां  व्‍यंजनांरो    रुप  दीसै  नही  जिणसूं   किताक    लोग  वर्ण  माळा रै भेळा   ऐ  अक्षर   पण  पडावे   है.  क् + = क्ष.  त् +=त्र. ज् += ज्ञ.

39.        संयोग में जो अक्षर पैली बोलण में आवै वो पैलो ने आधो लिखीजै। पछै बोलण मे आवै वो पछै ने पूरो लिखिजै।

यथा- रस्‍सी, सत्य, धन्य इत्यादि।

40.        परंत ङ, छ, ट, ठ,  ड, ढ, ऐ छै व्यंजन तो सयोग रै आद में पण पूरा ही लिकिजै।

        यथा- अङ्कुर, ऊछ्वास, गट्टी, बठ्ठर, गड्डी, ढढ्ढा इत्यादि।

41.        संयुक्त र अगाड़ी रा व्‍यंजन रै माथै लिखीजै ने रेफ कहीजै।

यथा- धर्म, कर्म, इत्‍यादि।

42.        पंरत र व्‍यंजन रै अगाड़ी आवै तो उणरा पग में लिखीजै।

यथा- प्रजा, मित्र, इत्यादि।

अक्षरां रा उच्चारण स्‍थान

अ, आ,क, ख, ग, घ, ङ, ह, विसर्ग

कंठ

इ, ई, च, छ, ज, झ, ञ, य, श,

ताळवो

उ, ऊ, प, फ, ब, भ, म

होठ

ऋ, ऋ, ट, ठ, ड, ढ, ण, र, ष, ड़,

मस्‍तक

लृ, लृ, त, थ, द, ध, न, ल, स, ळ

दांत

ङ, ञ, ण, न, म, अनुस्‍वार ं अनुनासिक ँ

नाक

ए, ऐ.

कंठतालु

ओ, औ.

कंठ होठ

व, व़.

दांत होठ

43.    जो अक्षर कंठ सूं बोलीजै वै कंठय, ताळवासूं बोलीजै वै तालव्‍य, होटसूं बोलीजै वै ओष्‍ठय, ताळवारा ऊपरला भाग सूं बोलीजै वै मुधन्‍र्य, दांता स्यं बोलीजै वै दंत्य ने नाकसूं बोलीजै वै अनुनासिक कहीजै।

शब्द विचार

44.        सुणीजै वो शब्द।

45.        शब्दरा भेद है। 1. ध्वन्यात्मक 2. वर्णात्मक।

46.        ढोल नगारा आदि रो शब्द ध्वन्यात्मक कहीजै।

47.        मूंडासूं बोलीजै वो शब्द वर्णात्मक कहीजै।

48.        वर्णात्मक शब्द दोय प्रकार रो है। 1. अपशब्द 2. वाचक

49.        जिणरो अर्थ नहीं हुवै वो अपशब्द कहीजै।

यथा- चूं चां इत्यादि।

50.        जिणरो अर्थ हुवै वो वाचकशब्द कहीजै।

यथा- राम, जोधपुर, इत्यादि।

51.        वाचक शब्दरा तीन भेद है। 1.संज्ञा 2. क्रिया 3. अव्‍यय।

52.        वस्‍तुरा नांव नै संज्ञा कैवै है।

यथा- गाय, जोधपुर इत्‍यादि।

गाय एक चोपग्‍गा रो नांव है। जोधपुर एक सैररो नांव है।

53.        जिण में करणो हुवणो आदि काम पायो जावै वा क्रिया कहीजै.

यथा- सीखै है, रमै है, इत्यादि।

54.        जिण में लिगं वचन, कारक नहीं हुवै वो अव्‍यय कहीजै।

टिप्पण-  अर्थात् जिणरो स्‍वरुप लिंग आदि किणी कारण सूं नहीं व़दलै वो अव्‍यय।

यथा-  झट, फेर, कद  इ्त्यादि।

संज्ञा निरुपण

55.        प्रथम संज्ञा रा तीन प्रकार है। 1. रुढ 2. यौगिक 3. योगरुढ।

56.        रुढ संज्ञा वा है जिणरो कोई खंड (टुकड़ो) सार्थक नहीं हुवै।

यथा- गाय, भैंस, इत्यादि।

“गाय" अठै प्रथम खंड "गा" ने दूजो खंड "य" हुवा परंत ऐ दोनु खंड जुदा निरर्थक है जिणसूं गाय आ संज्ञा रुढ है। इणीतरै सगळी रुढ संज्ञा समजणी।

57.        योगिक संज्ञा वा है जो दोय शब्दांरा मिलणसूं अथवा पद ने प्रत्यय रा मिलणसूं व़णै।

यथा- जिवधारी, जोधपुर कालज्ञान, बोलणवाळो, कारक ,इत्यादि।"जीवधारी" शब्द में "जीव" ने "धारी" ऐ दोय शब्दांरो योग है। जिणसूँ जीवधारि शब्द यौगिक है। इणीतरै "जोधपुर" शब्द में "जोध" और "पुर" दोय शब्दांरो योग है। "कालज्ञान" अठै "काल" और "ज्ञान" ऐ दोय शब्दांरो योग है। "बोलणवाळौ" इण शब्द में "बोलण" पदरै अगाड़ी"वाळौ" प्रत्यय रो योग है जिणसूं बोलणवाळौ ओ शब्द यौगिक है। "कारक" अठै "कार" ने "अक" रो योग है।

58.        योग रुढ संज्ञा वा है जो पदांरा मिलणसूं तो व़णै पण आपरा अनेक अवयवार्था नै छोड़कर एक

संकरतितार्थ र्नै व़तावै।

यथा-  अंगरखी, पंकज, गिरधारी इत्यादि।

“अगरखी" शब्द :अंग" ने "रखी" इणां दोय शबदां सूं व़णियो है, पण आपरा अवयवार्थ "आंगरी रक्षा करणवाळी" इण अर्थ नै छोड<र एक संकेतितार्त अंगरखी नैं हि व़तावै है जिणसूं अंगरखी शब्द योगरुढ है।

59.        संज्ञा रा पांच भेद फेर जुदा है। 1.जातिवाचक 2.व्‍यक्तिवाचक3. गुणावाचक 4. भाववाचक 5. सर्वनाम।

60.        जिणसूं जातिमात्ररो बोध हुवै वा संज्ञा जातिवाचक।

यथा-  आदमी, गाय, रुंख इत्यादि।

61.        जिणसूं किणि एकहीज चीजरो नांव जांणिजे वा संज्ञा व्‍यक्तिवाचक।

यथा- राम, जोधपुर, भोमसेन इत्यादि।

62.        पदार्थ रो गुण व़तावै वा संज्ञा गुणवाचक अथवा विशेषण कहीजै।

यथा-  काळो, लंबो, चोखो इत्यादि।

63.        जिणरा कैणासूं पदार्थ रो धर्म वा स्‍वभाद्व जाणियो जावै अथवा व्‍यापाररो बोध हुवै वा संज्ञा                 भाववाचक

यथा- मिठास, धीरज, समज इत्यादि।

64.        जो शब्द संज्ञारै व़दलै आवै वो सर्वनाम कहीजै।

यथा- तूं, हूं, वो इत्यादि।

इणरो प्रयोजन ओ है कै वारवार संज्ञारो उच्चारण नहीं करणौ पड़ै।

विशेषण                                                

65.        विशेषण दोय तहरे रा होवे।

  1. गुणबोधक
  2. संख्‍याबोधक

66.        गुणबोधक वो है जिणसू कमती व़त्‍तापणो अथवा चोखो भूंडो रुप औळखीजै।

          यथा- थोड़ो, घणो, ऊजळो, मैलो इत्‍यादि

67.        संख्‍याबोधक सूं गिणती जाणी जावै है।

68.        संख्‍या बोधक रा दोय भेद है।

  1. विभेदकसंख्‍याबोधक
  2. सामान्यसंख्‍याबोधक

69.        विभेदकसंख्‍याबोधक वो है जो घणांमायंसूं नियत संख्‍या वाळा नैं व़तावै।

          यथा- पैलो, दूजो, तीजो, चोथो, पांचवों इत्‍यादि

70.        सामान्य संख्‍याबोधक वो है जो सामान्य रीतिसूं सख्‍या व़तावै।

          यथा- एक, दोय, तीन, च्‍यार, पांच इत्‍यादि

भाववाचक

71.भाववाचक रा तीन भेद है।

  1. धर्मबोधक
  2. स्‍वभावबोधक
  3. व्‍यापारबोधक

72.जिणसूं पदार्थ रो धर्म जाणियो जावै वो धर्मबोधक।

  यथा- खटाई, पीळास, चुतराई इत्‍यादि

73.जिणसूं स्‍वभाव जाणियो जावै वो स्‍वभाबोधक।

  यथा- भय, धीरज, लाज, भूख, तिरस इत्‍यादि

74.जिणसूं क्रियारो व्‍यापार जाणियो जावै वा व्‍यापार बोधक।

  यथा- विचार, लैणदैण, घटाव, मिलाप इत्‍यादि

सर्वनाम

75.        सर्वनाम आठ प्रकाररो है।

१ पुरुषवाचक

२ निश्‍चयवाचक

३ अनिश्‍चयवाचक

४ प्रश्‍नवाचक

५ संबंधवाचक

६ आदरबोधक

७ परिणामवाचक

८ प्रकारवाचक

76.        पुरुषवाचक सर्वनाम तीन प्रकाररो है।

1. उत्‍तमपुरुष

2. मध्‍यपुरुष

3. अन्यपुरुष

77.        कवणवाळो उत्‍तमपुरुष।

          यथा- म्‍हैं, हूं, म्‍हे

78.        सांमलो सुणणवाळो मध्‍यम पुरुष।

          यथा- तूं, थै

79.        जिणरी व़ात कीवी जावै वो अन्य पुरुष।

          यथा- वो, वै

80.        जिणसूं निश्‍चय हुवै वो निश्‍चय वाचक।

 यथा- ओ, वो

टिप्‍पण- निकटवर्ती रै वास्‍तै “ओ” शब्‍द ने दूरवर्ती रै वास्‍ते “वो” शब्‍द है।

81.        जिणरा कैणसूं किणी रो निश्‍चय नहीं हुवै वो अनिश्‍चयवाचक।

          यथा- कोई

82.        जिणरा कैणसूं प्रश्‍न जांणियो जावै वो प्रश्‍नवाचक।

  यथा- कुण, कांई, किसो

83.        जिणरो वाक्‍य में परस्‍पर सम्‍बन्‍ध रवै वो सम्‍बन्‍धवाचक।

  यथा- जो, सो

84.        जिणसूं आदर जाणियो जावै वो आदरबोधक।

  यथा- आप, राज

85.        जिणसूं  परिणाम अर्थात् अंदेशो जाणियो जावै वो परिणामवाचक।

यथा- कित्तो,इत्तो, उत्तो, कित्तोक, कित्तोसोक इत्यादि।

86.        जिणसूं सरीसापणो जाणियो जावै वो प्रकार वाचक।

          यथा- कैड़ो, किसो, ऐड़ो, इसो, जैड़ो, जिसो, कैड़ोक, कैड़ोसोक, इत्‍यादि

87.        संज्ञा में लिंग, वचन, कारक हुवै है।

लिंग

88.    मारवाड़ी भाषा में लिंग दोय है।

  1. पुल्‍लिंग
  2. स्‍त्रीलिंग

89.                पुरुष बोधक संज्ञा पुल्‍लिंग।

                  यथा- घोड़ो, आदमी, भाकर, भारो, भँवरो इत्यादि

90.                स्‍त्री बोधक संज्ञा स्‍त्रीलिंग।

                  यथा- घोड़ी, हतणी,लुगाई भींत, भेट, भूंडण इत्‍यादि

91        .        जिणां शब्‍दांरो जोड़ो है उणांरो लिंग जाणणो तो कठिन नहीँ।

                  यथा- घोड़ो, घोड़ी, हाती, हतणी, मर्द, लुगाई इत्‍यादि

92.                        पंरप जिणरो जिड़ो नहीं उणा शब्‍दांरा लिंग इण तरै पिछांणणा।

                  यथा- व़ात, रात, भींत, गरणी, मोरी, मोळी इत्‍यादि

93.                किताक स्‍त्रीवाचक शण्‍द पुरुष वाचक शब्‍दां सूं विलक्षण है। यथा-

पुल्‍लिंग        स्‍त्रीलिंग

ऊंठ        सांड

सांड/बळद        गाय

सिकरो        बाज        

राजा        रांणी

भाई        बैन

मोर        ढेलड़ी [मोरनी]

सूर        भूंडण . इत्यादि

पिता        माता

पुरुष        स्‍त्री

94.                किताक प्राणी वाचक जिड़ारा शब्‍द स्‍त्रीलिंग में हीज बोलीजै है। यथा-

कोयल        मकड़ी

मैना        चमचेड़

जूं        लट

बतक        ईली

चील        सुळसुळी

टीलोड़ी        लीख इत्‍यादि

95.                किताक प्राणी वाचक जोड़ारा शब्‍द पुल्‍लिंग में हीज बोलीजै। यथा-

पतंगियो        सारस        

पपैयो        माछर

आगियो        कंसळाप

ममोलियो        खापरियो इत्‍यादि

96.                किताक शब्‍द पुल्‍लिंग स्‍त्रीलिंग दोनां में काम आवै है। यथा-

माईत        टाबर

वचन

97. मारवाड़ी भाषा में वचन दोय है।

  1. एकवचन
  2. बहुवचन

98. एकवचन सूं एक चीज रो बोध हुवै

    यथा- घड़ो, घोड़ो इत्‍यादि

99. बहुवचन सूं एकसूं जादा चीजां रो बोध हुवै।

      यथा- घड़ा, घोड़ा इत्‍यादि

100. संज्ञा रै अतं में “लोग” शब्‍द लगावनसूं घणांरो बोध हुवै।

     यथा- राजालोग, साधुलोग, माजनलोग इत्‍यादि

कारक

जो शब्‍द रो क्रियारै साथे संबंध व़तावै वो कारक।

यथा- राम पोथी देवै है

अठै “देवै है” क्रियारै साथे रामरो संबंध देवणसूं, ने पोथी रो सम्‍बन्‍ध दिरीजणसूं है जिणसूँ राम अर पोथी इणांरी कारक संज्ञा है।

कारक आठ है।

१ (कर्त्ता)

२ (कर्म)

३ करण

४ सम्‍प्रदान

५ अपादान

६ सम्‍बन्‍ध

७ अधिकरण

८ सम्‍बोधन

कारक रा चिह्न विभक्ति कहीजै। यथा-

कर्त्ता                 ॰

कर्म                नैं

करण                सूं. ऊं.

संप्रदान                {नै. वास्‍ते. रैवास्‍ते.१ रैतांई१}

अपादान                 सू. ऊं.

सम्‍बन्‍ध                रा.१ री. रै. रो.

अधिकरण        में

सम्‍बोधन                हे, अरे, रे.

काम करै वो कर्त्ता।

यथा- घोड़ो दोड़ै है.

घोड़ो दोड़णरो काम करै है जिणसूं कर्त्ता है।

कर्त्ता दोय प्रकाररो है.

१ प्रधान

२ अप्रधान

जिणरो लिंग वचन क्रियारै अनुसार हुवै वो प्रधान।

यथा- घोड़ो लात मारै है.

“मारै है” क्रिया पुल्‍लिंग एक वचन है,ने ”घोड़ो” कर्त्ता पण पुल्‍लिंग एक वचन है जिणसूं अठै ”घोड़ो” प्रधान कर्त्ता है।

जिणरो लिंग वचन क्रिया रै अनुसार नहीं हुवै वो अप्रधान।

यथा- राम सूं पोथी लिखी जै है.

“लिखीजै है” क्रिया स्‍त्रीलिंग एक वचन है ने “राम” कर्त्ता पुल्‍लिंग एक वचन है सो क्रिया रै अनुसार  नहीं जिणसूं “राम” ओ अप्रधान कर्त्ता है।

जो कीयो जावै वो कर्म , अर्थात् जिणमें सकर्मक क्रिया रो फल रवै.

यथा- घोड़ो टट्टी कूदै है.

टट्टी कूदीजै है जिणसूं कर्म है।

क्रिया करण में साधन है वो करण।

यथा- सवार चाबकासूं घोड़ा नै मारै है.

मारण में चाबको साधन है जिणसूं चाबको करण है।

जिणनै कोई वस्‍तु देवै, अथवा जिणरै वास्‍ते हुवै, अथवा जिणरै वास्‍तै कोई काम कीयो जावै वो सम्‍प्रदान।

यथा- राम नै पोथी दीवी. आ पोथी रामरै वास्‍तै है. आ पोथी राम वास्‍तै लिख।

अठै देवणो, हुवणो ने लिखणो राम रै वास्‍तै है जिणसूं राम सम्‍प्रदान है।

जिणसूं कोई पदार्थ जुदो हुवै , अथवा डरै, वा पड़ै, वा जिणसूं कोई चीज लीजावै वो आपादान।

यथा- सवार घोड़ा सूं पड़ै है। बाप सूं बेटो डरै है, बालक गुरु सूं पडे है.

नोकर मालिक सूं तनखा लेवै है।सवार घिड़ा सूं जुदो हुवै है जिणसूं घोड़ो अपादान है, बेटो बाप सूं डरै है जिणसूं बाप अपादान है, बालक गुरु कनै पडै है जिणसूं गुरु अपादान है, नोकर मालिक कनां सूं तनखा लेवै है जिणसूं मालिक अपादान है।

जिणसूं सम्‍बन्‍ध जाणियो जावै वो सम्‍बन्‍ध कारक।

टिप्‍पण- सम्‍बन्‍ध अनेक प्रकाररा है।

यथा- जन्यजनक सम्‍बन्‍ध, स्‍वस्‍वामिभाव  सम्‍बन्‍ध, कायंकारण सम्‍बन्‍ध, अंगागिभाव सम्‍बन्‍ध इत्‍यादि।

रामरो बेटो राजारो नोकर। माटीरो घड़ो, रामरो हात।

बेटो जन्य ने राम जनक हे जिणसूं रामरो बेटो अठै जनयजनक सम्‍बन्‍ध है. नोकर स्‍व ने राजारो नोकर अठै स्‍वस्‍वामिभाव  सम्‍बन्‍ध है। घड़ो कार्य ने माटी कारण है जिणसूं माटी रो घड़ो अठै कार्यकारण सम्‍बन्‍ध है। हात अंग ने राम अंगी है जिणसूं रामरो हात अठै अंगागिभाव सम्‍बन्‍ध है।

जिणरै आधार कोई चीज रवै वओ अधिकरण।

यथा- दवात में स्‍याही है।

स्‍याही दवात रै आधार रवै जिणसूं दवात अधिकरण है।

जिणसूं हेलो मारनै आपरै सांमो करै वो सम्‍बोधन।

यथा- हे राम! अरर मूर्ख!

राम नै हेलो मार नै सन्‍मुख करै है जिणसूं राम संबोधन है।

 शब्‍द रुप

 पुल्‍लिंग

पुल्‍लिंग हलनात शब्‍द एक वचन में तौ यूं रोयूं रवै, बहुवचन में अंत में “आ” लगायो जावै. पण कर्त्ता तथा कर्मरा बहुवचन में विकल्‍प सूं लागै है।

हंलत पुल्‍लिंग  खेत शब्‍द

कारक                        एकवचन                बहुवचन

कर्त्ता                        खेत                        खेत,खेतां

कर्म                        खेत, खेतनै                खेत, खेतांनै

करण                        खेतसूं, खेतऊं                खेतासूं, खेताऊं

संप्रदान                        खेतरै वास्‍तै, नैं                खेतांरै वास्‍तै, नैं

अपादान                खेतसूं, खेतऊं                खेतासूं, खेताऊं

सम्‍बन्‍ध                खेतरा, री, रै, रो                खेतांरा, री, रै, रो

अधिकरण        खेतमें                खेतां में

संबोधन                        है खेत                        हे खेतां

कारकांरा  उदाहरण

टिप्‍पणी-1. कर्त्ता म्‍हारो खेत है. म्‍हारा खेत है. खेतां मदत दीवी। कर्म -वो आपरे खेत गयो। तु खेतनै कांई करैला ? थे थांरा खेत वा़वो. तुं खेतां नै कांई करैला?

करण-खेतसूं ईजत है. खेताऊं वड़ो वा़जै है। संप्रदान- खेतरै वास्‍तै तरसै है. खेतांनै झुरै है। अपादान- खेतऊं आयो, खेताऊं लकड़ियां लायो। संबंध- खेतारो धान आयो, खेतारा ऊंमरा काडिया. इण खेतरी काकड़ियां मीठी है. खेतरै पाळी बांधो। अधिकरण- वो खेत में ऊभो है. उणां खेतांमें गऊं हुवै है। संबोधन- खेत! थैं म्‍हनै घणा फोड़ा घालिया।

2.कठेई कठेई द्वितीया विभक्ति में "नै'” चिन्‍ह नहीं लागै, और कठैई विकल्‍प सूं लागै है।

यथा- राम रोटी खावे है। राम कागद लिखै है। अठै नैं चिन्‍ह नहीं लागो है। तै चील देखी ही? तैं चील नैं देखी ही? अठै नैं विकल्‍प सूं लागो है। तैं चील देखी ही?  तैं चील नें देखी ही? अठै नैं विकल्‍प सूं लागो है।

हलंत पुल्‍लिंग घर इत्‍यादि शब्‍दां में थोड़ो फरक है सो दिखायो जावै है।

हलंत पुल्‍लिंग घर शब्‍द

कारक                        एकवचन                        बुहवचन

कर्त्ता                        घर                        घर, घरां

कर्म                        घर, घरे, घरां, घरनैं        घर, घरांनैं

करण                        घरसूं, ऊं                घरांसूं, ऊं

सम्‍प्रदान                घर रै वास्‍तै, नैं                घरांरै वास्‍तै, नैं

अपादान                घरसूं, ऊं                घरांसूं, ऊं

संबंध                        घररा, री, रे, रो                घरांरा, री, रै, रो

अधिकरण                घरमें, घरे                घरांमें

संबोधन                        हे घर!                        हे घरां

                        विशेष कारकांरा उदाहरण

टिप्‍पण- कर्त्ता म्‍हारो घर है। इत्ता घरां म्‍हारो नोतौ टाळ दीयो।कर्म- कांई आप म्‍हारोई घर फोड़ो हो? घरे जा. घरां जा. जाय घरनै तो देख? थे थांरा घर तौ देखो? म्‍हांरा घरांनै कांई देखां? अधिकरण- वो घरे है. वो घरमें कांई धरियो है? घरांमें धन कठै है।

पुल्‍लिंग आकारांत शब्‍द एक वचन में तौ यूं रोयूं रैवै बहुवचन में 'आ" रै अगाड़ी "वां" लगायो जावे है. पण कर्त्ता तथा कर्म रा बहुवचन में "वा" विकल्‍प सूं लागै है।

                आकारांत  पुल्‍लिंग  राजा  शब्‍द

कारक                        एकवचन                बहुवचन

कर्त्ता                        राजा                        राजा,राजा,राजावां                        

कर्म                        राजा,राजा नैं                राजा,राजावां नैं                

करण                        राजासूं, ऊं                राजावां        सूं

सम्‍प्रदान                राजा रै वास्‍तै                राजावांरै वास्‍तै

अपादान                राजासूं                        राजावांसूं

संबंध                        राजारा, री, रे, रो        राजावांरा, री, रै, रो

अधिकरण                राजामें,                        राजावां में

संबोधन                हे राजा                        हे राजावां

इवर्णांत पुल्‍लिंग शब्‍द एक वचन मेँ तो यूं रोयू रैवै. बहुवचनां में दीर्घ हुवै तो ह्नस्‍व करनै अंत मैं यां लगायो जावै. पण कर्त्ता तथा कर्म रा बहुवचनां में "या" विकल्‍प सूं लागै है। यथा -  

इकारांत पुल्‍लिंग मुनि शब्‍द

कारक                        एकवचन                बहुवचन

कर्त्ता                        मुनि                        मुनि, मुनियां

कर्म                        मुनि,मुनि नैं                मुनि, मुनियां नैं                

करण                        मुनिसूं                        मुनियां        सूं

सम्‍प्रदान                मुनि रै वास्‍तै                मुनियांरै वास्‍तै, नैं

अपादान                मुनिसूं                        मुनियांसूं

संबंध                        मुनिरा, री, रे, रो        मुनियांरा, री, रै, रो

अधिकरण                मुनिमें,                        मुनियां में

संबोधन                        हे मुनि                        हे मुनियां        

ईकारान्‍त  पुल्‍लिंग  तेली  शब्‍द

कारक                        एकवचन                बहुवचन

कर्त्ता                        तेली                        तेली, तेलीयां                        

कर्म                        तेली,तेली नैं                तेली, तेलीयां नैं                

करण                        तेलीसूं                        तेलीयां        सूं

सम्‍प्रदान                तेली रै वास्‍तै, नैं        तेलीयांरै वास्‍तै, नैं

अपादान                तेलीसूं                        तेलीयां सूं

संबंध                        तेलीरा, री, रे, रो         तेलीयांरा, री, रै, रो

अधिकरण                तेलीमें,                        तेलीयां में

संबोधन                हे तेली                        हे तेलीयां

उवर्णांत पुल्‍लिंग शब्‍द एकवचन में तो यूं रोयूं रैवै. बहुवचनां में दीर्घ हुवै तौ ह्रस्‍व करनैद्व अतं में "वा" लगायो जावं. पण कर्त्ता तथा कर्मरा बहुवचनां में "वा" विकल्‍प सूं लागै है। यथा -

                उकारांत  पुल्‍लिंग  साधु  शब्‍द

कारक                        एकवचन                बहुवचन

कर्त्ता                        साधु                        साधु, साधुवां                        

कर्म                        साधु,साधु नैं                साधु, साधुवां नैं                

करण                        साधुसूं                        साधुवां        सूं

सम्‍प्रदान                साधु रै वास्‍तै, नैं        साधुवांरै वास्‍तै, नैं

अपादान                साधुसूं                        साधुवां सूं

संबंध                        साधुरा, री, रे, रो        साधुवांरा, री, रै, रो

अधिकरण                साधुमें,                        साधुवां में

संबोधन                हे साधु                        हे साधुवां

                ऊकारान्‍त  पुल्‍लिंग  बाबू  शब्‍द

कारक                        एकवचन                बहुवचन

कर्त्ता                        बाबू                        बाबू, बाबूवां                        

कर्म                        बाबू,बाबू नैं                बाबू, बाबूवां नैं                

करण                        बाबूसूं                        बाबूवां सूं, ऊं

सम्‍प्रदान                बाबू रै वास्‍तै, नैं                बाबूवांरै वास्‍तै, नैं

अपादान                बाबूसूं                        बाबूवां सूं

संबंध                        बाबूरा, री, रे, रो                   बाबूवांरा, री, रै, रो

अधिकरण                बाबूमें,                        बाबूवां में

संबोधन                हे बाबू                        हे बाबूवां

एकांरांत पुल्‍लिंग शब्‍द एकवचन में तौ यूं रोयूं रैवै. बहुवचनां में "आ" लगायो जावै है. पण कर्त्ता तथा कर्म बहुवचनां में "आ" विकल्‍प सू! लागै है। यथा -

                एकारांत  पुल्‍लिंग  दवे  शब्‍द

कारक                        एकवचन                बहुवचन

कर्त्ता                        दवे                        दवे, दवेआं                        

कर्म                        दवे नैं                        दवेआं नैं                

करण                        दवेसूं                        दवेआं सूं,

सम्‍प्रदान                दवेरै वास्‍तै, नैं                दवेआंरै वास्‍तै, नैं

अपादान                दवेसूं                        दवेआं सूं

संबंध                        दवेरा, री, रे, रो                  दवेआंरा, री, रै, रो

अधिकरण                दवेमें,                        दवेआं में

संबोधन                हे दवे                        हे दवेआं

ओकारांत पुल्‍लिंग शब्‍द कर्तारा एकवचन में तौ यूं रोयूं रैवै. परंत कर्तारा बहुवचन में नै कर्म आदि कारकांरा एकवचन में "औ" नैं "आ" तथा "ए" नैं बहुवचनां में "ओ" नैं "आं" हुवै। यथा -

                ओकारांत  पुल्‍लिंग  घोड़ो शब्‍द

कारक                        एकवचन                बहुवचन

कर्त्ता                        घोड़ो, घोड़े                घोड़ां, घोड़ा                        

कर्म                        घोड़ो, घोड़ानैं                घोड़ा, घोड़ांनैं                

करण                        घोड़ांसूं                        घोड़ां सूं,

सम्‍प्रदान                घोड़ारै वास्‍तै, नैं                घोड़ांरै वास्‍तै, नैं

अपादान                घोड़ासूं                        घोड़ां सूं

संबंध                        घोड़ारा, री, रे, रो        घोड़ांरा, री, रै, रो

अधिकरण                घोड़ामें,                        घोड़ां में

संबोधन                हे घोड़ा                        हे घोड़ां

                        स्‍त्रीलिंग

हलंत स्‍त्रलिंग शब्‍द एकवचन में यूं रोयूं रैवै. बहुवचन में अंत में "आ" लगायो जावै. यथा -

                हलंत   स्‍त्रीलिंग  चील शब्‍द

कारक                        एकवचन                बहुवचन

कर्त्ता                        चील                        चीलां                

कर्म                        चीलनैं                        चीलांनैं                

करण                        चीलसूं                        चीलां सूं,

सम्‍प्रदान                चीलरै वास्‍तै, नैं                चीलांरै वास्‍तै, नैं

अपादान                चीलसूं                        चीलां सूं

संबंध                        चीलारा, री, रे, रो        चीलांरा, री, रै, रो

अधिकरण                चीलामें,                        चीलांमें

संबोधन                हे चील                        हे चीलां        

आकारान्‍त स्‍त्रलिंग शब्‍द एकवचन में तौ यूं रोयू रैवै. बहुवचन में "वां" लगायो जावै है। यथा -

                  आकारान्‍त  स्‍त्रीलिंग  मा शब्‍द

कारक                        एकवचन                बहुवचन

कर्त्ता                        मा                        मावां                

कर्म                        मानैं                        मावांनैं                

करण                        मांसूं                        मावां सूं,

सम्‍प्रदान                मारै वास्‍तै, नैं                मावांरै वास्‍तै, नैं

अपादान                मासूं                        मावां सूं

संबंध                        मारा, री, रे, रो                   मावां, री, रै, रो

अधिकरण                मामें,                        मावांमें

संबोधन                        हे मा                        हे मावां        

इवर्णांत स्‍त्रीलिंग शब्‍द एकवचन में यूं रोयूं रैवै. बहुवचन में दीर्घ हुवै तो ह्रस्‍व करनै आगे "यां" लगायो जावै है. यथा-

                इकारान्‍त  स्‍त्रीलिंग  मूर्ति शब्‍द

कारक                        एकवचन                बहुवचन

कर्त्ता                        मूर्ति                        मूर्तियां        

कर्म                        मूर्ति, मूर्ति नै                मूर्तियांनैं, मूर्तियां

करण                        मूर्तिसूं                        मूर्तियां सुं

सम्‍प्रदान                मूर्तिरै वास्‍तै                मूर्तियांरै वास्‍तै

अपादान                मूर्तिसूं                        मूर्तियां सूं

संबंध                        मूर्ति री, रे, रो                   मूर्तियां रा री, रै, रो

अधिकरण                मूर्तिमें,                        मूर्तियांमें

संबोधन                        हे मूर्ति                        हे मूर्तियां

                ईकारान्‍त  स्‍त्रीलिंग  तमाखु शब्‍द

कारक                        एकवचन                बहुवचन

कर्त्ता                        तमाखु                        तमाखुवांनै

कर्म                        तमाखु नै                तमाखुवांनैं

करण                        तमाखुसूं                        तमाखुवां सुं

सम्‍प्रदान                तमाखुरै वास्‍तै                तमाखुवांरै वास्‍तै

अपादान                तमाखुसूं                        तमाखुवां सूं

संबंध                        तमाखुरा, री, रै, रो        तमाखुवां रा री, रै, रो

अधिकरण                तमाखुमें,                तमाखुवांमें

संबोधन                        हे तमाखु                हे तमाखुवां

                दीर्घ ऊकारांत  स्‍त्रीलिंग  बहु शब्‍द

कारक                        एकवचन                बहुवचन

कर्त्ता                        बहु                        बहुवां

कर्म                        बहु नै                        बहुवांनैं

करण                        बहुसूं                        बहुवां सुं

सम्‍प्रदान                बहुरै वास्‍तै                बहुवांरै वास्‍तै

अपादान                बहुसूं                        बहुवां सूं

संबंध                        बहुरा, री, रै, रो           बहुवां रा री, रै, रो

अधिकरण                बहुमें,                            बहुवां में

संबोधन                        हे बहु                         हे बहुवां

एकारांत स्‍त्रीलिंग शब्‍द एकवचन में यूं रोयूं रैवै. बहुवचन में “आ” लगायो जावै है. यथा-

                एकारांत  स्‍त्रीलिंग  खे शब्‍द

कारक                        एकवचन                बहुवचन

कर्त्ता                        खे                        खेआं

कर्म                        खे नै                        खेआंनैं

करण                        खेसूं                        खेआंसुं        

सम्‍प्रदान                खेरै वास्‍तै                खेआंरै वास्‍तै

अपादान                खेसूं                        खेआं सुं        

संबंध                        खेरा, री, रै, रो           खेआंरा, री, रै, रो

अधिकरण                खेमें,                           खेआंमें

संबोधन                        हे खे                        हे खेआं

ओकारांत स्‍त्रीलिंग शब्‍द एकवचन में यूं रोयूं रैवै. बहुवचन में “वा” लगायो जावै है। यथा -

                ओकारांत  स्‍त्रीलिंग  गो शब्‍द                 

कारक                        एकवचन                बहुवचन

कर्त्ता                        गो                        गोवां

कर्म                        गो नैं                        गोवांनैं

करण                        गोसूं                        गोवांसुं        

सम्‍प्रदान                गोरै वास्‍तै                गोवां रै वास्‍तै

अपादान                गो सूं                        गोवांसुं        

संबंध                        गोरा, री, रै, रो           गोवांरा, री, रै, रो

अधिकरण                गोमें,                                गोवांमें

संबोधन                        हे गो                        हे  गोवां

औकारांत स्‍त्रीलिंग शब्‍द एकवचन में यूं रोयूं रवै. बहुवचन में “वा” लगायो जावै है। यथा -         

                औकारांत  स्‍त्रीलिंग  गौ शब्‍द                 

कारक                        एकवचन                बहुवचन

कर्त्ता                        गौ                        गौवां

कर्म                        गौ नैं                        गौवांनैं

करण                        गौसूं                        गौवांसुं        

सम्‍प्रदान                गौरै वास्‍तै                गौवां रै वास्‍तै

अपादान                गौ सूं                        गौवांसुं        

संबंध                        गौरा, री, रै, रो           गौवांरा, री, रै, रो

अधिकरण                गौमें,                               गौवांमें

संबोधन                        हे गौ                        हे गौवां  

                        सर्वनाम  शब्‍दां  रा रुप

                        उत्तम पुरुष  हूं शब्‍द

कारक                        एकवचन                बहुवचन

कर्त्ता                        हूं,म्‍हैं                        म्‍हे

कर्म                        म्‍हनैं                        म्‍हांनै

करण                        {म्‍हारा सूं म्‍हारा ऊं        {म्‍हांसूं म्‍हांरासूं,म्‍हांराऊं, म्‍हारैऊं        

                         म्‍हारैऊं                        

सम्‍प्रदान                {म्‍हारै वास्‍तै                {म्‍हांरै वास्‍तै, म्‍हां वास्‍तै

अपादान                {म्‍हारासूं, म्‍हांराऊं        {म्‍हांसूं, म्‍हांरासूं, म्‍हांरा ऊं, म्‍हांरै ऊं

                        म्‍हांरै ऊं                        

संबंध                        म्‍हारा, री, रै, रो           म्‍हांरा, री, रै, रो

अधिकरण                म्‍हारामें,                               {म्‍हांमें, म्‍हांरै में,म्‍हांरा में

                        मध्‍यम पुरुष तूं शब्‍द                                        

कारक                        एकवचन                 बहुवचन

कर्त्ता                        तूं, तैं, थैं                         थे, थां

कर्म                        थनैं                         थांनै

करण                          {थारासूं, थारै ऊं, थांऊं    {थांसूं, थांरासूं,थांऊं, थांरैऊं                        

सम्‍प्रदान                थारै वास्‍तै                   {थांरै वास्‍तै, थांवास्‍तै

अपादान                 {थारासूं,थांऊं                   {थांसूं, थांरासूं, थांरा ऊं, थांरै ऊं

संबंध                         थारा, री, रै, रो              थांरा, री, रै, रो

अधिकरण                थारामें,                               थांमें, थांरामें, थांरै में

                        अन्य पुरुष वो शब्‍द

कारक                     एकवचन                        बहुवचन

कर्त्ता                     वो, उण                      वै, उणां, वां

कर्म                    उणनैं, ऊं नैं                     उणांनैं, वैनैं वानैं

करण                    उणांसूं, ऊं नैं                      उणांसूं वैंसूं, वांसूं                        

सम्‍प्रदान            उणरै वास्‍तै, ऊं रै वास्‍तै   {उणांरै वास्‍तै, वैंरैवास्‍तै, वांरैवास्‍तै

अपादान             उणसूं, ऊं सूं                         उणांसूं, वैंसूं, वांसूं

संबंध                     उणरा, री, रै, रो          {उणांरा, री, रै, रो, वैंरा, री, रै, रो, वांरी, वांरै, वांरो, वांरा

अधिकरण              उणमें,                       उणांमें, वैंमें, वां में

                        अनिश्‍चय वाचक कोई शब्‍द

कारक                     एकवचन                        बहुवचन

कर्त्ता                कोई, किणी

कर्म                कींनैंई, किणीनैं

करण                कींसूं ई, किणीसूं

संप्रदान                कींरैईवास्‍तै, किणीरै वास्‍तै

अपादान        कींसूंई, किणीसूं, किणीऊं

संबंध                {कींराई, कींरीई, कीरैई,किणीरा, री, रै, रो}

अधिकरण        कींमेंई, किणीमें

                        निश्‍चय  वाचक  ओ शब्‍द

कारक                     एकवचन                        बहुवचन

कर्त्ता                 ओ, इण                                ऐ, इणा, यां

कर्म                इणनैं, ईंनैं                        {इणांनैं, ऐनैं, यांनैं, आंनैं

करण                इणसूं, ईंसूं, ईंऊं                        {इणांसूं, ऐसूं, ऐंऊ, यांऊं, यांसूं, आसूं

संप्रदान                {इणरै वास्‍तै ईंरैवास्‍तै                {इणांरै वास्‍तै, ऐंरैवास्‍तै, यांरैवास्‍तै, आंरैवास्‍तै

अपादान        इणसूं, ईंसूं, ईंऊं                        {इणांसूं, ऐसूं, ऐऊं, आंसूं, यांसूं, यांऊं

संबंध                इणरा, री, रै, रो                        {इणांरा, री, रै, रो, यांरा, री रै, रो, ऐंरा, री, रै, रो, आंरी, रै,                                                 री,रो}

अधिकरण        इणमें, ईंमें                        {इणमें, ऐमें, यांमें आंमें.

                        प्रश्‍न वाचक कुण शब्‍द

कारक                     एकवचन                        बहुवचन

कर्त्ता                 कुण, किण                        कुण, किणां

कर्म                कीनैं,किणनैं                        किणांनैं

करण                कींसूं, किणसूं                        किणांसूं

संप्रदान                {कींरै वास्‍तै, किणरै वास्‍तैं        {किणांरै वास्‍तै

अपादान        कींसू                                 {किणांसूं,

संबंध                कींरा, री, रै, रो                        {किणांरा, री, रै, रो,                                                 

अधिकरण        कींमें,किणमें                        किणांमें

                संबंध वाचक  सो शब्‍द

कारक                     एकवचन                        बहुवचन

कर्त्ता                { तिको, तिण, सो उण, वो         {तिके,वै. उणां, तिणां.वां

कर्म                तिणनैं, उणनैं, ऊंनै, किणसूं        तिणांनै, उणांनैं, वैनैं

करण                तिणसूं, उणसूं                         उणांऊं, उणांसूं, वैंऊं वैंसूं, वांसू, तिणांसू

संप्रदान                तिणरै वास्‍तै, उणरै वास्‍तैं                {तिणांरै वास्‍तै, उणां रै वास्‍तै, वैंर वास्‍तै, उणांसूं

अपादान        तिणसूं, उणसूं                         {तिणांसूं, उणासूं, वैंऊं, वैसूं, वांसूं, वांऊं

संबंध                तिणांरा, री, रै, रो ,उणरा,री, रै, रो        {तिणांरा, री, रै, रो, वैंरा,री,रो, रै,उणांरा, री, रो, रै,                                                         उणांरा, री, रो, रै, वांरा, री, रो, रै                                                

अधिकरण        तिणमें,उणमें                                {तिणांमें, उणामें, वैमें, वामें

                संबंध वाचक  सो शब्‍द

कारक                     एकवचन                        बहुवचन

कर्त्ता                 जिको, जिण, जो                {जो, जिको, जिकां जिणां

कर्म                जिणनैं, जींनैं                        जिणांनैं, जैंनै, जानैं

करण                जिणसूं,जिणऊं, जींऊं                 जिणासूं, जैसूं, जांसूं

संप्रदान                जिणरै वास्‍तै, जींरै वास्‍तैं                जिणांरै वास्‍तै, जैंरैवास्‍तै, जांरैवास्‍तै

अपादान        {जिणसूं, जिणऊं, जींसूं                 {जिणांसूं, जैंऊं, जांऊं

संबंध                जिंणरा, री, रै, रो ,जैंरा,री, रै,         {जिणांरा, री, रै, रो, जांरा,री,रो, रै

                रो जींरा, री रै, रो                                

अधिकरण        जिणमें जींमें                        {जिणांमें, जैंमैं, जांमें

                आदर बोधक आप शब्‍द एकवचनांत

कारक                                कारक

कर्त्ता                आप                संप्रदान                आपरै वास्‍तै

कर्म                आपनैं                अपादान        आपसूं

करण                आपसूं                संबंध                आपरा, री, रै, रो

                                अधिकरण        आपमें

                आदर बोधक राज शब्‍द

कारक                                कारक

कर्त्ता                राज                संप्रदान                राजरै वास्‍तै

कर्म                राजनैं                अपादान        राजसूं

करण                राजसूं                संबंध                राजरा, री, रै, रो

                                अधिकरण        राजमें

सज्ञां वाचक शब्‍द रै अगाड़ी आदर रै वास्‍तै जी, जीसा, सा अथवा साब, प्रत्‍यय लगायाजावै ने उणां शब्‍दांरा रुप केवल बहुवचन में हीज हुवै। यथा -

कारक                        बहुवचन

कर्त्ता                        मैंत जी

कर्म                        मैंतजी, नैं

करण                        मैंतजी सूं

सप्रदान                        मैंतजी रै वास्‍तै

अपादान                मैंतजी सूं

संबंध                        मैंतजी रा, री, रै, रो

अधिकरण                मैंतजी में

संबोधन                 हे मैंतजी

                आदर बोधक  रावजीसा  शब्‍द

कारक                                        कारक

कर्त्ता                रावजीसा                अपादान        रावजीसा सूं

कर्म                रावजीसानैं                संबंध                रावजीसा रा, री, रै, रो

करण                रावजीसा सूं                अधिकरण        रावजीसा में

संप्रदान                रावजीसारै वास्‍तै        संबोधन                है रावजीस

                आदर बोधक  ठाकरसा  शब्‍द

कारक                                        कारक

कर्त्ता                ठाकरसा                अपादान        ठाकरसा सूं

कर्म                ठाकरसानैं                संबंध                ठाकरसा रा, री, रै, रो

करण                ठाकरसा सूं                अधिकरण        ठाकरसामें

संप्रदान                ठाकरसारै वास्‍तै                संबोधन                है ठाकरसा

                आदर बोधक सेठसाब शब्‍द

कारक                                        कारक

कर्त्ता                सेठसाब                        अपादान        सेठसाब        सूं

कर्म                सेठसाब        नैं                संबंध                सेठसाब         रा, री, रै, रो

करण                सेठसाब         सूं                अधिकरण        सेठसाब        में

संप्रदान                सेठसाब        रै वास्‍तै                संबोधन                है सेठसाब

आदर रै वास्‍तै बहुवचन पण काम में आवै है. यथा -

सेठां नैं दीयो. ठाकर पधारिया. सेठ गया. महाराज पधारिया.

                संख्‍या वाचक शब्‍द

एक शब्‍द रा रुप एकवचन में हीज हुवै. यथा-

                एक शब्‍द

कर्त्ता                एक                अपादान        एक सूं

कर्म                एक नैं                संबंध                एक रा, री, रै, रो

करण                एक सूं                अधिकरण        एक में

संप्रदान                एक रै वास्‍तै                

दोय, तीन, च्‍यार आदि सामान्य संख्‍याबोधक शब्‍दारां रु बहुवचन में हीज हुवै. यथा -        

                दोय शब्‍द

कर्त्ता                दोय, दोयां        अपादान        दोयां सूं

कर्म                दोयां नैं                संबंध                दोयां रा, री, रै, रो

करण                दोयांसूं                अधिकरण        दोयां में

संप्रदान                दोयां रै वास्‍तै                

                तीन शब्‍द

कर्त्ता                तीन, तीनां        अपादान        तीनां सूं

कर्म                तीनां नैं                संबंध                तीनां रा, री, रै, रो

करण                तीनांसूं                अधिकरण        तीनां में

संप्रदान                तीनां रै वास्‍तै                

पैलो। दूजो, तीजो इत्‍यादि विभेदक संख्‍याबोधक शब्‍दारां रुप एकवचन में हीज हुवै. यथा -

कर्त्ता                पैलो, पैले        अपादान        पैलासूं

कर्म                पैलानैं                संबंध                पैला रा, री, रै, रो

करण                पैला सूं                अधिकरण        पैला में

संप्रदान                पैला रै वास्‍तै

                दूजो शब्‍द        

कर्त्ता                दूजो, दुजे        अपादान        दूजासूं

कर्म                दूजानैं                संबंध                दूजा रा, री, रै, रो

करण                दूजा सूं                अधिकरण        दूजा में

संप्रदान                दूजा रै वास्‍तै

तीजो, चोथो, छुठ्ठो और नवमो ऐ शब्‍द ओकारांत है. बाकी सगळा शब्‍द अनुस्‍वार सहित है. यथा -

                पांचवों शब्‍द

कर्त्ता                पांचवों, पांचवें        अपादान        पांचवांसूं

कर्म                पांचवांनैं        संबंध                पांचवां रा, री, रै, रो

करण                पांचवांसूं        अधिकरण        पांचवां में

संप्रदान                पांचवां रै वास्‍तै


काल(लकार)

153.        काम करतां जो समय लागै वो काळ कहीजै.

        काळ रो दूजो नांव लकार है.

154.        लकार बारै 12 है. यथा-

  1. सामान्य
  2. आसन्न भूत
  3. पूर्ण भूत
  4. संदिग्‍ध भूत
  5.  हेतुहेतुमद्‍भूत
  6. अपूर्ण भूत
  7. सामान्य वर्तमान
  8. अपूर्ण वर्तमान
  9. संदिग्‍ध वर्तमान
  10. भविष्‍यत
  11. विधि
  12. संभावना

155.        लकारां रै सिवायपूर्वकालिक क्रिया जुदी है।

156.        मुख्‍य काळ तीन है. भूत, वर्तमान, भविष्‍यत्।

157.        होय चूको वो भूतकाळ।

        यथा- राम पोथी लिखी

        अठै राम पोथी लिख चूका है जिणसूं भूतकाळ जांणियो जावै है।

158.        हुवै है वो वर्तमान काळ।

        यथा- राम पोथी लिखै है.

        अठै राम अबार पोथी लिख रयो है जिणसूं वर्तमान काळ जांणियो जावै है।

159.        हुवैला वो भविष्‍यत्‍काळ.

        यथा- राम पोथी लिखैला.

        अठै राम पोथी अगाड़ी लिखैला जिणसूंच भविष्‍यत् काळ जांणियो जावै है।

160.        भूतकाळ 6 भेद है.

  1. सामान्य भूत
  2. आसन्न भूत
  3. पूर्णभूत
  4. संदिग्‍धभूत
  5. हेतुहेतुमद्‍भूत
  6. अपूर्ण

१६१जिण भूत काळ में ओ निश्‍चय नहीं हुवै कै काम थोड़ी वार पैली हुवो है कै   घणीवार पैली वो सामान्य भूत।

      यथा- म्‍हैं लिखियो, म्‍हैं लिखी.

१६२जिण भूत काळ में आ व़ात पाई जावै कै काम अबार ईज हुवो है वो आसन्न भूत।

      यथा- म्‍हैं लिखियो है, म्‍हैं लिखियोईज है।

१६३जिण भूत काळ में आ व़ात, पाई जावै कै काम घणो पैली हुवो है वो पूर्ण भूत।

      यथा- म्‍हैं कीयो हो, म्‍हैं कीवी ही

१६४जिण भूत काळ में कीयोड़ा कामरो संदेह पायो जावै वो संदिग्‍ध भूत काळ।

      यथा- म्‍हैं लिखियो हुवैला, म्‍हैं लिखी हुवैला.

१६५जिण भूत काळ में कार्य कारण दोनूं भूत काळरा हुवै वो हेतुहेतुमद्‍भूत।

      यथा- हूं पडतो तो सूख पावतो, तऊँ काम कसती तो घररा राजी रैवता.

१६६जिण भूत काळ में काम अधूरो पायो जावै वो अपूर्ण भूत।

      यथा- हूँ करतो हो, तूं करती ही.

१६७वर्तमान काळरा तीन भेद है.

.सामान्य वर्तमान

.अपूर्ण वर्तमान

.संदिग्‍ध वर्तमान।

१६८जो काम अबार हुवै है वो सामान्य वर्तमान काळ।

 यथा- बैठो हूँ, सूतो हूँ, लिखी हूं, पडूं हुं.

१६९जिण कामरो आरम्‍भ हुगयो हुवै पण पूरो नहीं हुवै वो अपूर्ण वर्तमान।

      यथा- हूं लिखूं हूं, वा लिखे है, हूं बैठू हूं।

१७०जिण कामरै सरु हुवण में पण संदेह हुवै वो संदिग्‍ध वर्तमान।

      यथा- वो लिखतो हुवैला, वा लिखती हुवैला.

१७१जिण कामरो आरम्‍भ अबै हुवैला वो भविष्‍यत्।

      यथा- हूं लिखूंलअ, अ लिखैला।

१७२. जिण में आज्ञा अथवा आदर रै साथे प्रेरणा पाई जावै वा विधि क्रिया.

      यथा- तूं कर, आप दिरावो.

१७३जिण में काम सरु करणरी इच्‍छा पाई जावै वा संभावना क्रिया।

      यथा- हूं लिखूं, वा लिखै.

१७४एक कामकीयां पछै दूजो काम कीयो हुवै, करतो हुवै, अथवा करणो हुवै जठै पैली क्रिया पूर्वकालिक क्रिया कहीजै।

यथा- वो सोयर गयो, वो ललिखनै व़ांचै है, वो हंसकर व़ात करै है. वो जीमर सोवैला।

१७५जिण क्रिया री सिद्विरै वास्‍तै दूजी कृया कीवी जावै वा साध्‍य क्रिया परकालिक

कृया कहीजै।

१७६क्रियारा “ओ” रो लिइप कर उणरै अगाड़ी “नै”, रैवास्‍तै, वास्‍ते ए प्रत्‍यय लगावण सूं परकालिक क्रिया व़णै है.

      यथा- वो देखणनैं जावै है.

      अठै “जावै है” आ दूजी क्रिया देखण रुप क्रिया री सिद्विरै वास्‍तै कीवी जावै है जिणसूं “देखणवैं” आ परकालिक क्रिया है।

पूर्वकालिक क्रिया           परकालिक क्रिया

कर, करनैं                करणनैं, करणवास्‍तै

जायर, जायनैं          जांवणनैं जांवणवास्‍तै

बैठर, बैठनैं               बैठणनैं, बैठणवास्‍तै

बांधर, बांधनैं            बांधनैं, बांधणरैवास्‍तै

लिखकर, लिखनैं       लिखणनै, लिखणरैवास्‍तै

सजर, सजनैं             सजणनैं, सजणरैवास्‍तद्व

१७७लिंग वचन पुरुष रै अनुसार बारै लकारां में नै पूर्वकालिक क्रिया में नीचै लिखिया मुजब जुदा-जुदा प्रत्‍यय लगाया जावै है।यथा-

१७८सकर्मक धातु रा सामान्य भूत, आसन्नभूत, पूर्णभूत, संदिग्‍ध भूत, इणां च्‍यारे लकारां में कर्तवाच्‍य में पण क्रिया कर्म रै अनुसार हुवै। यथा-

घोड़ियां घास खायो          घोड़ियां घास खायो है

घोड़ियां घास खायो हो         घोड़ियां घास खायो हुवैला

अठै खायो वगेरे क्रियावां पुल्‍लिंग घास कर्मरै अनुसार है।

घोड़े लात मारी                घोड़े लात मारी है

घोड़े लात मारी ही         घोड़े लात मारी हुवैला

अठै मारी वगेरे क्रियावां स्‍त्रीलिंग लात कर्म रै अनुसार है.

१७९अपवाद- अकर्मक धातु त्या जिणरा अंत में सकणो, चूकणो इत्‍यादि सहायक क्रिय आवै वो संयुक्त धातु नै लावणो तथा जावणो धातु, इणाँ धातुवारां रुप कर्ता रे अनुसार हुवै। यथा-

राम बैठो हो              राम दवाई कर सकियो

राम दवाई करचूको है

राम दवाई लायो हुवैला      राम घरे गयो

1. सामान्य भूत         2. सकर्मक आसन्न भूत

                पुल्‍लिंग                     स्‍त्रीलिंग                     पुल्‍लिंग                       स्‍त्रीलिंग        

  पुरुष             एकवचन  बहुवचन         एकवचन  बहवचन        एकवचन  बहुवचन        एकवचन   बहुवचन        

उत्तमपुरुष  यो        या              ई                ई         यो है,         या है      ई है                ई है

                                                                                   योईज है  याईज है           ईज है     ईज है

मध्‍यमपुरुष यो                या              ई                ई        यो है,         या है      ई है                ई है

                                                                                   योईज है  याईज है           ईज है     ईज है

अन्यपुरुष   यो        या              ई                ई        यो है,         या है      ई है                ई है

                                                                                   योईज है  याईज है           ईज है     ईज है        

उत्तमपुरुष  इयो        इया              ई        ई        यो है,         या है      ई है                ई है

                                                                                   इयोईज है इयाईज है           ईज है     ईज है        

मध्‍यमपुरुष  इयो        इया              ई        ई        यो है,         या है      ई है                ई है

                                                                                   इयोईज है इयाईज है           ईज है     ईज है        

अन्यपुरुष   इयो        इया              ई        ई        यो है,         या है      ई है                ई है

                                                                                   इयोईज है इयाईज है           ईज है     ईज है        

3. पूर्ण भूत                                 4. संदिग्‍ध भूत

                पुल्‍लिंग                     स्‍त्रीलिंग                     पुल्‍लिंग                       स्‍त्रीलिंग        

  पुरुष             एकवचन  बहुवचन            एकवचन बहवचन        एकवचन  बहुवचन        एकवचन   बहुवचन        

उत्तमपुरुष  यो हो        या हा              ई ही        ई ही         यो हुवैला  या हुवैला           ई हुवैला   ई हुवैला

मध्‍यमपुरुष यो हो        या हा              ई ही        ई ही         यो हुवैला  या हुवैला           ई हुवैला   ई हुवैला

अन्यपुरुष  यो हो        या हा              ई ही        ई ही         यो हुवैला  या हुवैला           ई हुवैला   ई हुवैला

उत्तमपुरुष इयो हो        इया हा              ई ही        ई ही         इयो हुवैला इया हुवैला ई हुवैला   ई हुवैला

मध्‍यमपुरुष इयो हो        इया हा              ई ही        ई ही         इयो हुवैला इया हुवैला ई हुवैला   ई हुवैला

अन्यपुरुष  इयो हो        इया हा              ई ही        ई ही         इयो हुवैला इया हुवैला ई हुवैला   ई हुवैला

5. हेतुहेतुमद्‌भूत                        6. अपूर्ण भूत

                पुल्‍लिंग                     स्‍त्रीलिंग                     पुल्‍लिंग                       स्‍त्रीलिंग        

  पुरुष             एकवचन  बहुवचन         एकवचन  बहवचन        एकवचन  बहुवचन        एकवचन   बहुवचन        

उत्तमपुरुष  वतो        वता             वती         वती         वतोहो              वताहा          वतीही                वतीही

मध्‍यमपुरुष  वतो        वता             वती         वती         वतोहो              वताहा          वतीही                वतीही

अन्य पुरुष  वतो        वता             वती         वती         वतोहो              वताहा          वतीही                वतीही

उत्तमपुरुष  तो        ता          ती                 ती        तोहो              ताहा          तीही                तीही

मध्‍यमपुरुष  तो        ता            ती                 ती         तोहो              ताहा          तीही                तीही

अन्य पुरुष  तो        ता             ती                 ती         तोहो              ताहा          तीही                तीही

7. सामान्य वर्तमान                         8. संदिग्‍ध वर्तमान

                पुल्‍लिंग                     स्‍त्रीलिंग                     पुल्‍लिंग                       स्‍त्रीलिंग        

  पुरुष             एकवचन  बहुवचन         एकवचन  बहवचन        एकवचन  बहुवचन        एकवचन   बहुवचन        

उत्तमपुरुष   ऊंहूं        वांहां           ऊंहूं          वांहां         वतोहुऊंला  वताहुऊंला वतीहुऊंला वतीहुऊंला

मध्‍यमपुरुष   वैहै        वोहो    वैहै                वोहो          वतोहुवैला  वताहुवोला वतीहुवैला वतीहुवोला

अन्य पुरुष    वैहै        वोहो    वैहै                वोहो          वतोहुवैला  वताहुवोला वतीहुवैला वतीहुवोला

उत्तमपुरुष   ऊंहूं        आंहां           ऊंहूं          आंहा         तोहुऊंला   ताहुवांला  तीहुऊंला  तीहुवांला  

मध्‍यमपुरुष  ऐहै        ओहो          ऐहै                ओहौ         तोहुवैला   ताहुवोला  तीहुवैला  तीहुवोला  

अन्य पुरुष  ऐहे        ऐहै          ऐहै                 ऐहै         तोहुऊंला   ताहुवैला  तीहुवैला  तीहुवैला           *संदिग्‍ध वर्तमान रा प्रत्‍यय अन्य पुरुष में तो संदिग्‍ध वर्तमान नैं वतातै है नै उत्तम तथा         मध्‍यम पुरुष में भूत काळरा संदिग्‍ध वर्तमान नै वतावै है। देखो नियम 161.

9. भविष्‍यत्                                          10. विधि

                पुल्‍लिंग                     स्‍त्रीलिंग                     पुल्‍लिंग                       स्‍त्रीलिंग        

  पुरुष             एकवचन  बहुवचन         एकवचन  बहवचन        एकवचन  बहुवचन        एकवचन   बहुवचन        

उत्तमपुरुष  ऊंला ऊं        वांलां वां  ऊंला. ऊं  वांला. वां

मध्‍यमपुरुष वैला ई        वोला वो  वैला. ई  वोला. वो        ॰ .व           वो        ॰, व                व

अन्य पुरुष वैला ई        वोला वो  वैला. ई  वोला. वो          

उत्तमपुरुष ऊंला. उं        आंला. आ  ऊंला. ऊं आंला. आं          

मध्‍यमपुरुष ऐला. ई        ओला.ओ  ऐला. ई  ओला. ओ           ॰                ओ        ॰                ओ.

अन्य पुरुष ऐला.ई        ऐला ई   ऐला. ई   ऐला. ई

                13. अकर्मक आसन्न भूत                          14. अकर्मक संदिग्‍धभूत

भूपुल्‍लिंग                     स्‍त्रीलिंग                     पुल्‍लिंग                       स्‍त्रीलिंग        

  पुरुष             एकवचन  बहुवचन         एकवचन  बहवचन        एकवचन   बहुवचन         एकवचन   बहुवचन        

उत्तमपुरुष   योहूं        याहां           ई हूं     ईहां         योहुऊंला   या हुवांला ईहुऊंला   ई हुऊंला

मध्‍यमपुरुष   योहै        याहो    ई है               ई हो         यो हुवैला  या हुवोला ई हुवैला  ई हुवोला

अन्य पुरुष   योहै        याहै    ई है               ई है          यो हुवैला  या हुवोला ई हुवैला  ई हुवोला

उत्तमपुरुष   ओहूं        आंहां           ई हूं     ई हा        आ हुऊंला  आहुवांला  तीहुऊंला  तीहुवांला  

                    ईयोहूं         इयाहां          

मध्‍यमपुरुष  ओहै        ओहो          ई है               ई हो         तोहुवैला   ताहुवोला  ईहुऊंला   ईहुवांला

                  ईयोंहै         इयाहो                                    ईयो हुऊंला इयो हुवोला

अन्य पुरुष  ओहे        आहै          ई है                ई है         तोहुऊंला  ताहुवैला  तीहुवैला  तीहुवैला  

                 ईयोंहै         इयाहो                                   इयोहुवैला  इया हुवैला

11.सामान्य भूत                                     12. सकर्मक आसन्न भूत

                पुल्‍लिंग                     स्‍त्रीलिंग                     पुल्‍लिंग                       स्‍त्रीलिंग        

  पुरुष             एकवचन  बहुवचन         एकवचन  बहवचन        एकवचन  बहुवचन        एकवचन   बहुवचन        

उत्तमपुरुष          ऊं        वां            ऊं                वां        

मध्‍यमपुरुष         वै        वो             वै                वो                यनै, यर,कर        

अन्यपुरुष    वै        वो            वै                वो        

उत्तमपुरुष   ऊं        आं              ऊं            आं        

मध्‍यमपुरुष         ऐ        ओ           ऐ             ओ                नैं,र.

अन्यपुरुष          ऐ        ऐ            ऐ  

अकर्मक सामान्य भूत

                पुरुष                        पुल्‍लिंग                        स्‍त्रीलिंग

                                एकवचन    बहुवचन    एकवचन    बहुवचन         

व्‍यजनांत        उत्तमपुरुष        ओ, इयो        आ, इया        ई                ई

धातु                मध्‍यमपुरुष        ओ, इयो        आ, इया        ई                ई

                अन्यपुरुष         ओ, इयो        आ, इया        ई                ई

अकर्मक पूर्ण भूत

                पुरुष                        पुल्‍लिंग                        स्‍त्रीलिंग

                                एकवचन    बहुवचन    एकवचन    बहुवचन         

व्‍यजनांत        उत्तमपुरुष        ओहो, इयोहो        आहा, इयाहा        ईही                ईही

धातु                मध्‍यमपुरुष        ओहो, इयोहो        आहा, इयाहा        ईही                ईही

                अन्यपुरुष         ओहो, इयोहो        आहा, इयाहा        ईही                ईही

180.        सकर्मक धातुरा सामान्य भूत, आसन्नभूत, पुर्णभूत, संदिग्‍धभूत इणां च्‍यार लकारांरा कर्ता में दोय         रुप हुवै तो दूजो रुप हुवै. यथा-

        म्‍हैं कागद लिखियो                तैं कागद लिखियो है

        उण चिट्‍ठी ललिखी ही        घोड़ो लात मारी हुवैला

        मुनियां व्‍यान धरियो है        उणां कागद लिखियो हो

        घोड़ां घास खायो हुवैला

182.        अकर्मक धातुरा सामान्य भूत, आसन्नभूत, पुर्णभूत, संदिग्‍धभूत इणां च्‍यार लकारांरा कर्ता में         दोय रुप हुवै तोपैलो रुपहीजावै, यथा-         

        घोड़ो गयो                        घोड़ा गया

        हूं गयो                                वो गयो

        तूं गयो                                वै आया

        टिप्‍पण- कोई कोई सकर्मक तथा अकर्मक क्रिया रा कर्ता में "हूं, म्‍हैं, वो, वै" आडेकट बोले है

        परंतु शुद्ध तो ऊपर कयो वोहीज है.

                        लकारांरा रुप व़णावणरी रीति

182.        क्रिया रा रुप व़णावण में धातुरा वकार रो लोप करकलेणी. मारवाड़ी भाषा में स्‍वरांत धातु         नहीं है, परंत वकारांत धातुरा वकार रो लोप हुवां पछे धातु स्‍वरांत हुय जावै है.

        यथा- समजावणो, अठै वकार रो लोप कीयां पछै "समजा"ओ धातु स्‍वरांत हुजावै है।

सामान्य भूत

183.        धातु रै अगाड़ी लंबरेकरा नसारै अनुसार प्रत्‍यय लगावणसूं सामान्य भूत व़णै है. यथा-

                                स्‍वरांत सकर्मक व़ा धातु

                                        पुल्‍लिंग        

                        एकवचन                        बहुवचन

        उत्तमपुरुष        म्‍हैं, वा म्‍हे, व़ायो 1                 म्‍हैं, वा म्‍हे व़ाया 1

        मध्‍यमपुरुष        थैं, वा थे व़ाया                        थैं, वा थे व़ाया

        अन्यपुरुष        उण वा उणां व़ायो                उण वा उणां व़ाया

————————————————————————————————————————

  1. नियम 175 रै अनुसार भूतादि च्‍यार लकारां में धातुवांरा रुप कर्मरै अनुसार हुवै. जिणसूं प्रथम उदाहरण रै वास्‍ते कर्तारा एकवचन बहुवचन दोनुं दिखाया दीया है अगाड़ी इणीज तरे समझो।

—————————————————————————————————————

                                         स्‍त्रीलिंग        

                        एकवचन                           बहुवचन

                        म्‍हैं, व़ाई                             म्‍हैं,  व़ाई

                                   थैं, व़ाई                        थैं,  व़ाई

                        उण  व़ाई                         उण व़ाई

व्‍यंजनांत सकर्मक लिख धातु

                                        पुल्‍लिंग        

                        एकवचन                        बहुवचन

        उत्तमपुरुष        म्‍हैं, लिखियो                        म्‍हैं, लिखिया

        मध्‍यमपुरुष        थैं,लिखियो                        थैं, लिखिया        

        अन्यपुरुष        उण लिखियो                        उण लिखिया

                                        स्‍त्रीलिंग        

                        एकवचन                           बहुवचन

                        म्‍हैं, लिखी                            म्‍हैं, लिखी

                                 थैं, लिखी                        थैं, लिखी

                        उण लिखी                        उण लिखी

2. आसन्न भूत

184.        धातुरै अगाड़ी लंबर दोयरा नकसारै अनुसार प्रत्‍यय लगावणसूं आसन्न भूत क्रिया व़णै है।         यथा-

                                         स्‍वरांत सकर्मक व़ा धातु

                                                पुल्‍लिंग        

                                एकवचन                        बहुवचन

                उत्तमपुरुष        म्‍हैं, व़ायो है                        म्‍हैं, व़ाया है

                मध्‍यमपुरुष        थैं, व़ाया है                        थैं,  व़ाया

                अन्यपुरुष        उण, व़ायो है                           उण, व़ाया है

                                                स्‍त्रीलिंग        

                        एकवचन                           बहुवचन

                        म्‍हैं, व़ाई है                            म्‍हैं,  व़ाई है

                                  थैं, व़ाई         है                        थैं,  व़ाई है

                                उण व़ाई है                        उण व़ाई है

        टिप्‍पण- बैठणो, सोवणो, ऊभणो,पडणो इत्‍यादि किताक धातुवांरा आसन्न भूतरा रुप वर्तमान में         पण काम आवै है.

        यथा- हूँ बैठो हुं, तुं ऊभो है, इत्‍यादि.

                                         व्‍यंजनांत सकर्मक लिख धातु

                                        पुल्‍लिंग        

                        एकवचन                        बहुवचन

        म्‍हैं, लिखियो है                        म्‍हैं, लिखिया है

                        थैं,लिखियो है                        थैं, लिखिया है        

                        उण लिखियो है                उण लिखिया है

                                        स्‍त्रीलिंग        

                        एकवचन                           बहुवचन

                        म्‍हैं, लिखी है                            म्‍हैं, लिखी है

                                 थैं, लिखी है                        थैं, लिखी है

                                उण लिखी है                        उण लिखी है

पूर्ण भूत

185.        धातु रै अगाड़ी लंबर तीनरा नकसारै अनुसार प्रत्‍यय लगावण सूं पूर्ण भूत क्रिया व़णै है. यथा-

                                        स्‍वरांत सकर्मक व़ा धातु

                                                पुल्‍लिंग        

                                एकवचन                        बहुवचन

                                म्‍हैं, व़ायो है                        म्‍हैं, व़ायाहा

                                थैं, व़ाया हो                        थैं,  व़ायाहा

                                उण, व़ायो हो                   उण, व़ायाहा

                                                स्‍त्रीलिंग        

                        एकवचन                           बहुवचन

                        म्‍हैं, व़ाई ही                            म्‍हैं,  व़ाई ही

                                  थैं, व़ाई         ही                        थैं,  व़ाई ही

                                उण व़ाई ही                        उण व़ाई ही

                                व्‍यंजनांत सकर्मक लिख धातु

                                        पुल्‍लिंग        

                        एकवचन                        बहुवचन

        म्‍हैं, लिखियो हो                म्‍हैं, लिखिया हा

                        थैं,लिखियो हो                        थैं, लिखिया हा        

                        उण लिखियो हो                उण लिखिया हा

                                        स्‍त्रीलिंग        

                        एकवचन                           बहुवचन

                        म्‍हैं, लिखी ही                            म्‍हैं, लिखी ही        

                                 थैं, लिखी ही                        थैं, लिखी ही        

                                उण लिखी ही                        उण लिखी ही        

संदिग्‍ध भूत

186.        धातुरै अगाड़ी लबंर च्‍याररा नकसारै अनुसार प्रत्‍यय लगावण सूं संदिग्‍धभूत क्रिया व़नै है।         यथा-

                                        स्‍वरांत सकर्मक व़ा धातु

                                                पुल्‍लिंग        

                                एकवचन                        बहुवचन

                                म्‍हैं, व़ायो हुवैला                म्‍हैं, व़ायाहुवैला

                                थैं, व़ायो हुवैला                        थैं,  व़ायाहुवैला

                                उण, व़ायो हुवैला               उण, व़ायाहुवैला

                                        स्‍त्रीलिंग        

                        एकवचन                           बहुवचन

                        म्‍हैं, व़ाई हुवैला                            म्‍हैं,  व़ाई हुवैला

                                  थैं, व़ाई         हुवैला                        थैं,  व़ाई हुवैला

                                 उण व़ाईहुवैला                           उण व़ाई हुवैला

                                व्‍यंजनांत सकर्मक लिख धातु

                                        पुल्‍लिंग        

                        एकवचन                        बहुवचन

        म्‍हैं, लिखियो हुवैला                म्‍हैं, लिखिया हुवैला

                        थैं,लिखियो हुवैला                थैं, लिखिया हुवैला

                        उण लिखियो हुवैला                   उण लिखिया हुवैला

                                        स्‍त्रीलिंग        

                        एकवचन                           बहुवचन

                        म्‍हैं, लिखीहुवैला                             म्‍हैं, लिखी हुवैला

                                 थैं, लिखी हुवैला                थैं, लिखी हुवैला        

                                उण लिखी हुवैला                उण लिखी हुवैला

हेतुहेतुमद्‌भूत

187.        धातुरै अगाड़ी लंबर पांचरा नकसारै अनुसार प्रत्‍यय लगावण सूं हेतुहेतुमद्‌भूत क्रिया व़णै है।         यथा-

                                        स्‍वरांत सकर्मक व़ा धातु

                                                पुल्‍लिंग        

                                एकवचन                        बहुवचन

                                हूं व़ावतो                        म्‍हें, व़ावता

                                तूं, व़ावतो                        थे,  व़ायाहुवैला

                                वो, व़ावतो                      वै, व़ावता

                                                स्‍त्रीलिंग        

                        एकवचन                           बहुवचन

                        हूँ, व़ावती                            म्‍हैं, व़ावती

                                  तूं, व़ावती                        थे,  व़ावती

                                 वा व़ावती                                वै व़ावती

                                        व्‍यंजनांत सकर्मक लिख धातु

                                        पुल्‍लिंग        

                        एकवचन                        बहुवचन

        हूं, लिखितो                        म्‍हे, लिखिता

                        तूं,लिखितो                            थैं, लिखिता

                        वो लिखिता               वै लिखिता

                                        स्‍त्रीलिंग        

                        एकवचन                           बहुवचन

                        हूं, लिखती                म्‍हैं, लिखती

                                 तूं,  लिखती                           थैं, लिखती

                                वो लिखती                        वै लिखती

6. अपूर्णभूत

188.        धातुरै अगाड़ी लंबर छ रा  नकसारै अनुसार प्रत्‍यय लगावण सूं अपूर्णभूत क्रिया व़णै है।         यथा-

————————————————————————————————————————

1. आदर में स्‍त्रीलिंग मेँ पण पुल्‍लिंग रै समान रुप हुवै और बहुवचन हीज हुवै. यथा- माजीसा बोलिया कै म्‍हे पधारांला थेई आईजो.

                                        स्‍वरांत सकर्मक व़ा धातु

                                                पुल्‍लिंग        

                                एकवचन                        बहुवचन

                                हूं व़ावतो हो                        म्‍हें, व़ावताहा

                                तूं, व़ावतो हो                        थे,  व़ावताहा

                                वो, व़ावतो हो                     वै, व़ावताहा

                                                स्‍त्रीलिंग        

                        एकवचन                           बहुवचन

                        हूँ, व़ावती ही                            म्‍हैं, व़ावती ही

                                  तूं, व़ावती ही                        थे,  व़ावती ही

                                 वा व़ावती ही                वै व़ावती ही

                                व्‍यंजनांत सकर्मक लिख धातु

                                        पुल्‍लिंग        

                        एकवचन                        बहुवचन

        हूं, लिखितो हो                        म्‍हे, लिखिता हो        

                        तूं,लिखितो हो                            थैं, लिखिता हो        

                        वो लिखिता हो                               वै लिखिता हो        

                                        स्‍त्रीलिंग        

                        एकवचन                           बहुवचन

                        हूं, लिखती ही                        म्‍हैं, लिखती ही

                                 तूं,  लिखती ही                           थैं, लिखती ही

                        वो लिखती ही                        वै लिखती ही

                                 7. सामान्य वर्तमान 8. अपूर्ण वर्तमान

189.        धातुरै अगाड़ी लंबर सातरा नकसारै अनुसार प्रत्‍यय लगावण सूं सामान्य वर्तमान त्या अपूर्ण         वर्तमान दोनुं  क्रिया व़णै है। यथा-

                                        स्‍वरांत सकर्मक व़ा धातु

                                                पुल्‍लिंग        

                                एकवचन                        बहुवचन

                                हूं व़ाऊं हूं                        म्‍हें, व़ावांहां

                                तूं, व़ावै है                        थे,  व़ावोहो

                                वो, व़ावै है                            वै, व़ावैहै

                                        स्‍त्रीलिंग        

                        एकवचन                           बहुवचन

                        हूँ, व़ाऊंहूं                            म्‍हैं, व़ावांहां

                                  तूं, व़ावै है                        थे,  व़ावोहो

                         वा व़ावै है                                वै व़ावै है

                                व्‍यंजनांत सकर्मक लिख धातु

                                        पुल्‍लिंग        

                        एकवचन                        बहुवचन

        हूं, लिखू हूं                        म्‍हे, लिखांहां

                        तूं,लिखै है                               थैं, लिखो हो

                        वो लिखै है                   वै लिखै है

                                        स्‍त्रीलिंग        

                        एकवचन                           बहुवचन

                        हूं, लिखूं हूं                           म्‍हैं, लिखां हां

                                 तूं,  लिखै है                      थैं, लिखो हो

                        वो लिखै है                        वै लिखै है

190.        सामान्य वर्तमान और अपूर्ण वर्तमान रा रुप बहुधा एक ही हुवै है: परन्‍तु बैठणो, सोवणो,         ऊभणो, पडणौ (लोट लगावणी) इत्‍यादि किताक धातुवांरा रुप भिन्न है। यथा-

                                सामान्य वर्तमान                अपूर्ण वर्तमान

                                   बैठो हूं                          बैठूं हूं

                                  ऊभो हूं                          ऊभूं हूं

                                  सूतो हूं                         सोऊं हूं

                                पडियो हूं                         पडू हूं

संदिग्‍ध वर्तमान

191.        धातु रै अगाड़ी नंबर आठरा नकसारै अनुसार प्रत्‍यय लगावण सूं संदिग्‍ध वर्तमान क्रिया व़णै         है. यथा-

————————————————————————————————————————

  1. देखो पृष्‍ठ 63 में। अन्यपुरुष यथा- जा तू नीग़ै कर, वो व़ावतो हुवैला। उत्तम पुरुष यथा- हां हूं व़ावतो हुवैला जिणसूं आयो नहीं।

 स्‍वरांत सकर्मक व़ा धातु

                                पुल्‍लिंग        

                एकवचन                        बहुवचन

                हूं व़ावतो हुऊंला                म्‍हें, व़ावता हुवांला

                तूं, व़ावतो हुवैला                थे,  व़ावता हुवोला

                वो, व़ावतो हुवेला                   वै, व़ावता हुवैला

                                स्‍त्रीलिंग        

                एकवचन                           बहुवचन

                हूं, व़ावती हुऊंला                    म्‍हैं, व़ावती हुवांला

                          तूं, व़ावती हुवैला                थे,  व़ावती हुवोला                                                 वा व़ावती हुवैला                 वै व़ावती हुवैला

                        व्‍यंजनांत सकर्मक लिख धातु

                                पुल्‍लिंग        

                एकवचन                        बहुवचन

हूं, लिखतो हुऊंला                म्‍हे, लिखांहां

                तूं,लिखतौ हुवैला                     थैं, लिखता हुवोला

                वो लिखती हुवैला           वै लिखता हुवैला

                                स्‍त्रीलिंग        

                एकवचन                           बहुवचन

                हूं, लिखती हुऊंला          म्‍हैं, लिखता हुवांला

                         तूं,  लिखतौ हुवैला                  थैं, लिखता हुवोला

                वो लिखतो हुवैला                वै लिखता हुवैला

10.भविष्‍य

192. धातु रै अगाड़ी लबंर नवरा नकसारै अनुसार प्रत्‍यय लगावण सूं भविष्‍यत् क्रिया व़णै है. यथा-

                                स्‍वरांत सकर्मक व़ा धातु 

                                        पुल्‍लिंग

                        एकवचन                        बहुवचन

                        हूं व़ाऊंला व़ाऊं                        म्‍हे व़ावाला व़ावां

                        तूं व़ावैला व़ाई                        थे व़ावोला व़ावो

                        वो व़ावैला व़ाई                 वै व़ार्वला व़ाई

————————————————————————————————————————

  1. भविष्‍यत् क्रिया रा दूजा रुपां में धातु रा अंतरो स्‍वर स्‍वरित बोलणो। भविष्‍यत् क्रिया रा दूजा रुपांरा एकवचन में प्रत्‍यय सूं पैली 'स' लगावणसूं नै बहुवचन में 'व' नैं 'स' आदेश करण सूं पण भविष्‍यत् क्रिया वणै है। यथा- हूं करसूं, म्‍हे करसां, तूं करसी, थे करसो, वो करसी, वै करसी।

स्‍त्रीलिंग        

                एकवचन                           बहुवचन

                हूं, व़ाऊंला व़ाऊं                            म्‍हैं, व़ावांला व़ावां

                          तूं, व़ावैला व़ाई                        थे,  व़ावोला व़ावो                                                 वा व़ावैला व़ाई                 वै व़ावैला  व़ाई

                        व्‍यंजनांत सकर्मक लिख धातु

                                पुल्‍लिंग        

                एकवचन                        बहुवचन

हूं, लिखूंला लिखूं                म्‍हे, लिखांला, लिखां

                तूं,लिखैला, लिखी                     थैं, लिखोला, लिखो

                वो लिखैला लिखी                       वै लिखैला, लिखी

                                स्‍त्रीलिंग        

                एकवचन                           बहुवचन

                हूं, लिखूंला लिखूं                    म्‍हैं, लिखांला, लिखां

                   तूं,लिखैला, लिखी                  थैं, लिखोला, लिखो

                वो लिखैला लिखी                    वै लिखैला, लिखी

11. विधि

193.        विधि क्रिया केवल मध्‍यम पुरुष में आवै है। धातु रै अगाड़ी लंबर दसरा नकसा रै अनुसार         प्रत्‍यय लगावण सूं विधि क्रिया व़णै है।यथा-

                        स्‍वरांत सकर्मक वा धातु और जा धातु

                                           पुल्‍लिंग

                                एकवचन                बहुवचन

        मध्‍यमपुरुष                तूं व़ाव                        थे व़ावो

                                तूं जा                        थे जावो

                                        स्‍त्रीलिंग

                                तूं व़ाव                 थे व़ावो

                                तुं जा                         थे जावो

                          व्‍यंजनांत सकर्मक लिख धातु

                                           पुल्‍लिंग

                                एकवचन                बहुवचन

                                तूं लिख                 थे लिखो

                                

                                        स्‍त्रीलिंग

                                तूं लिख                 थे लिखो

12. सम्‍भावना

194.        धातु रै अगाड़ी लंबर इग्यारै नकसा रै अनुसार प्रत्‍यय लगावण सूं सम्‍भावना क्रिया व़णै है।         यथा-

                                स्‍वरांत सकर्मक वा धातु

                                           पुल्‍लिंग

                                एकवचन                बहुवचन

                                हूं व़ाऊं                        म्‍हे व़ावां

                                तूं व़ावै                        थे व़ावो

                                वो व़ाव                        वै व़ावै

                                        स्‍त्रीलिंग

                                हूं व़ाऊं                 म्‍हे व़ावां

                                तुं व़ावै                 थे व़ावो

                                वा वावै                        वै व़ावै

                                  व्‍यंजनांत सकर्मक लिख धातु

                                           पुल्‍लिंग

                                एकवचन                बहुवचन

                                हूं लिखूं                        म्‍हे लिखूं

                                तूं लिख                 थे लिखो

                                वो लिखै                वै लिखै

                                

                                        स्‍त्रीलिंग

                                हूं लिखूं                        म्‍हे लिखां

                                तूं लिख                 थे लिखो

                                वा लिखै                वै लिखै

                                        पूर्वकालिक क्रिया

195.        धातु रै अगाड़ी लंबर बारै रा नकसा रै अनुसार प्रत्‍यय लगावन पू्र्व कालिक क्रिया व़णै है।         यथा-

                                        स्‍वरांत व़ा धातु

                                         व़ायनैं, व़ायर, व़ाकर

                                      व्‍यंजनांत लिख धातु

                                         लिखनैं, लिखर, लिखकर

196.        अकर्मक धातु रा रुप प्राय: सकर्मक रै अनुसार हुवै है। थोड़ोसो फर्क है सो आगे प्रसंग ऊपर         दिखायो जावैला।

                                                   सामान्य भूत

पुल्‍लिंग

                        एकवचन                        बहुवचन

                        हूं सोयो  सूतो                     म्‍हे सोया  सूता

                        तूं सोयो  सूतो                    थे सोया   सूता

                        वो सोयो  सूतो            वै सोया   सूता

                                        स्‍त्रीलिंग

                        हूं सोई  सूती                   म्‍हे सोई  सूती

                        तूं सोई  सूती                  थे सोई  सूती

                        वा सोई  सूती                  वै सोई  सूती

                                             आसन्न भूत

197.        अकर्मक धातु रै अगाड़ी लंबर तेरेरा नकसारै अनुसारप्रत्‍यय लगावण सूं आसन्न भूत क्रिया         व़णै है। यथा-

                                                            पुल्‍लिंग

                        एकवचन                        बहुवचन

                        हूं सोयो हूँ  सूतो हूँ              म्‍हे सोया हां   सूता हां

                        तूं सोयो है   सूतो है            थे सोया हो   सूता हो

                        वो सोयो है  सूतो है            वै सोया है   सूता है

                                        स्‍त्रीलिंग

                        हूं सोई हूं  सूती हूं                   म्‍हे सोई हां  सूती हां

                        तूं सोई है  सूती है                     थे सोई हो   सूती हो

                        वा सोई है  सूती है                  वै सोई है   सूती है

198.        सामान्य वर्तमान में इण धातु रा रुप ऐहिज है।

                                        पुर्ण भूत

                                                                 पुल्‍लिंग

                        एकवचन                        बहुवचन

                        हूं सोयो हो  सूतो हो               म्‍हे सोया हा   सूता हा

                        तूं सोयो हो  सूतो हो                थे सोया हा   सूता हा

                        वो सोयो हो  सूतो हो                वै सोया है   सूता है

                                        स्‍त्रीलिंग

                        हूं सोई ही सूती ही                 म्‍हे सोई ही  सूती ही

                        तूं सोई ही  सूती ही                 थे सोई ही   सूती ही

                        वा सोई ही  सूती ही      वै सोई ही  सूती ही        

                                                          संदिग्‍धभूत

199.        अकर्मक भूत धातु रै अगाड़ी लंबर चवदैरा नकसारै अनुसार प्रत्‍यय लगावण सूं संदिग्‍ध क्रिया         भूत व़णै है। यथा-

                                                        पुल्‍लिंग

                        एकवचन                        बहुवचन

                हूं सोयो हुऊंला  सूतो हुऊंला              म्‍हे सोया हुवांला   सूता हुवांला

                तूं सोयो हुवेला  सूतो हुवेला               थे सोया हुवोला    सूता हुवोला

                वो सोयो हुवेला  सूतो हुवैला               वै सोया हुवैला     सूता हुवैला

                                        स्‍त्रीलिंग

                हूं सोई हुऊंला  सूती हुऊंला                 म्‍हे सोई हुवांला   सूती हुवांला

                तूं सोई हुवैला  सूती हुवैला                   थे सोई हुवोला   सूती हुवोला

                वा सोई हुवैला  सूती हुवैला                 वै सोई हुवैला   सूती हुवैला        

                                                     हेतुहेतुमद्‌भूत

                                                       पुल्‍लिंग

                        एकवचन                        बहुवचन

                        हूं सोवतो                             म्‍हे सोवतो

                        तूं सोवतो                      थे सोवतो

                        वो सोवतो                             वै सोवतो

                                        स्‍त्रीलिंग

                        हूं सोवती                            म्‍हे सोवती

                        तूं सोवती                              थे सोवती

                        वा सोवती                             वै सोवती         

                                                         अपूर्णभूत

                                                          पुल्‍लिंग

                        एकवचन                        बहुवचन

                        हूं सोवतो हो                          म्‍हे सोवताहा

                        तूं सोवतो हो                         थे सोवताहा

                        वो सोवतो हो                         वै सोवताहा

                                        स्‍त्रीलिंग

                        हूं सोवती ही                              म्‍हे सोवती ही

                        तूं सोवती ही                      थे सोवती ही

                        वा सोवती ही                      वै सोवती ही        

                                               सामान्य वर्तमान

                                                      पुल्‍लिंग

                        एकवचन                        बहुवचन

                        हूं सूतो हूं                             म्‍हे सूता हां

                        तूं सूतो है                      थे सूता हो

                        वो सूतो है                           वै सूता है

                                        स्‍त्रीलिंग

                        हूं सूती हूं                              म्‍हे सूती हां

                        तूं सूती है                            थे सूती हो

                        वा सूती है                           वै सूती है

        

                                           अपूर्ण वर्तमान

                                                पुल्‍लिंग

                        एकवचन                        बहुवचन

                        हूं सोऊं हूं                              म्‍हे सोवां हां

                        तूं सोवै है                      थे सोवो हो

                        वो सोवै है                            वै सोवै है

                                        स्‍त्रीलिंग

                        हूं सोऊं हूं                         म्‍हे सोवां हां

                        तूं सोवै है                            थे सोवो हो

                        वा सोवै है                            वै सोवै है

                                    9. संदिग्‍ध वर्तमान

                                                              पुल्‍लिंग

                        एकवचन                        बहुवचन

                हूं सोवता हुऊंला                             म्‍हे सोवता हुवांला

                तूं सोवतो हुवैला                               थे सोवता हुवोला

                वो सोवतो हुवैला                          वै सोवता हुवैला

                                        स्‍त्रीलिंग

                हूं सोवती हुऊंला                              म्‍हे सोवती हुवांला

                तूं सोवती हुवैला                                     थे सोवती हुवोला

                वा सोवती हुवैला                     वै सोवती हुवैला

                                  10. संदिग्‍ध वर्तमान

                                                          पुल्‍लिंग

                        एकवचन                        बहुवचन

                          हूं सोऊंला                                  म्‍हे सोवांला

                         तूं सोवैला                                     थे सोवोला

                         वो सोवैला                                  वै सोवैला

                                        स्‍त्रीलिंग

                         हूं सोऊंला                              म्‍हे सोवांला

                        तूं सोवैला                                     थे सोवोला

                        वा सोवैला                                  वै सोवैला
                                    
 11. विधि

                                                   पुल्‍लिंग

                        एकवचन                        बहुवचन

                         तूं सो                                            थे सोवो

                                                 स्‍त्रीलिंग

                        तूं सो                                                थे सोवो

                                         12.  संभावना

                                                        पुल्‍लिंग

                        एकवचन                        बहुवचन

                          हूं सोऊं                                           म्‍हे सोवां

                         तूं सोवै                                         थे सोवो

                         वो सोवै                                          वै सोवै

                                        स्‍त्रीलिंग

                         हूं सोऊं                                        म्‍हे सोवां

                        तूं सोवै                                       थे सोवो

                       वा सोवै                                          वै सोवै

                                पूर्वकालिक  क्रिया

                                    सोयनै, सोयर, सोकर

                                स्‍वरांय अकर्मक बैठ धातु

                                     १. सामान्य धातु

200.        व्‍यंजनांतअकर्मक धातु रै अगाड़ी लंबर पनरै रा नकसा रै अनुसार प्रत्‍यय लगावण सूं         सामान्य भूत क्रिया व़णै है। यथा-

                                        पुल्‍लिंग

                        एकवचन                            बहुवचन

                        हूं बैठो                                  म्‍हे बैठा

                        तूं बैठो                                  थे बैठा

                        वां बैठो                                      वै बैठा

                                        स्‍त्रिलिंग

                        एकवचन                            बहुवचन

                        हूं बैठी                                  म्‍हे बैठी

                        तूं बैठी                                      थे बैठी

                        वां बैठी                                  वै बैठी

आसन्न धातु

                                        पुल्‍लिंग

                        एकवचन                            बहुवचन

                        हूं बैठो        हूं                          म्‍हे बैठाहां

                        तूं बैठो है                          थे बैठा हो

                        वां बैठो है                           वै बैठा है

                                        २.स्‍त्रिलिंग

                        एकवचन                            बहुवचन

                        हूं बैठी हूं                          म्‍हे बैठी हां

                        तूं बैठी        है                              थे बैठी हो

                        वां बैठी         है                          वै बैठी है

        सामान्य वर्तमान में ईण धातुरा रुप ऐहीज है।

३.पूर्णभूत

201.        व्‍यंजनांत अकर्मक धातु रै अगाड़ी लंबर सोळै रा नक्‍सा रै अनुसार प्रत्‍यय लगाव सूं पूर्ण भूत          क्रिया व़णै है।

                                        पुल्‍लिंग

                        एकवचन                            बहुवचन

                        हूं बैठो        हो                          म्‍हे बैठा हा

                        तूं बैठो हो                          थे बैठा हा

                        वां बैठो हो                           वै बैठा हा

                                        स्‍त्रिलिंग

                        एकवचन                            बहुवचन

                        हूं बैठी ही                          म्‍हे बैठी ही

                        तूं बैठी ही                              थे बैठी ही

                        वां बैठी         ही                          वै बैठी  ही

४।संदिग्‍ध भूत

  पुल्‍लिंग

                        एकवचन                        बहुवचन

                हूं बैठो हुऊंला                                म्‍हे बैठा हुवांला

                तूं बैठो हुवैला                               थे बैठा हुवोला

                वो बैठोहुवैला                               वै बैठा हुवैला

                                        स्‍त्रीलिंग

                हूं बैठी          हुऊंला               म्‍हे बैठी हुवांला

                तूं बैठी         हुवैला                         थे बैठी हुवोला

                वा बैठी          हुवैला                     वै बैठी  हुवैला

5. हेतुहेतुमद्‌भूत

पुल्‍लिंग

                   एकवचन                        बहुवचन

                हूं बैठतो                              म्‍हे बैठता

                तूं बैठतो                       थे बैठता

                वो बैठतो                            वै बैठता

                                स्‍त्रीलिंग

                हूं बैठती                              म्‍हे बैठती

                तूं बैठती              थे बैठती

                वा बैठती             वै बैठती         

6. अपूर्ण भूत

पुल्‍लिंग

                   एकवचन                        बहुवचन

                हूं बैठतो हो                          म्‍हे बैठता हा

                तूं बैठतो हो                      थे बैठता हा

                वो बैठतो हो                        वै बैठता हा

                                स्‍त्रीलिंग

                हूं बैठती ही                             म्‍हे बैठती ही

                तूं बैठती ही                           थे बैठती ही

                वा बैठती ही                           वै बैठती ही

                         7. सामान्य वर्तमान

202.        इण धातुरा रुप सामान्य वर्तमान में आसन्न भूत रै जिसा हुवै है। देखो आसन्न भूत।

8. अपूर्ण वर्तमान

पुल्‍लिंग

                   एकवचन                        बहुवचन

                हूं बैठू हूं                              म्‍हे बैठांहां

                तूं बैठै है                     थे बैठो हो

                वो बैठै है                             वै बैठै है

                                स्‍त्रीलिंग

                हूं बैठू हूं                                        म्‍हे बैठांहां

                तूं बैठं है                          थे बैठो हो

                वा बैठै है                             वै बैठै है

9. संदिग्‍ध  वर्तमान

पुल्‍लिंग

                   एकवचन                        बहुवचन

                हूं बैठतो हूऊंला                म्‍हे बैठता हुवांला

                तूं बैठतो हुवैला                       थे बैठता हुवोला

                वो बैठतो हुवैला                  वै बैठता हुवैला

                                स्‍त्रीलिंग

                हूं बैठती हुऊंला              म्‍हे बैठाती हुवांला

                तूं बैठती हुवैला           थे बैठती हुवोला

                वा बैठती हुवैला            वै बैठै हुवैला

10. भविष्‍यत्

पुल्‍लिंग

                   एकवचन                        बहुवचन

                हूं बैठूंला                              म्‍हे बैठांला

                तूं बैठैला                       थे बैठोला

                वो बैठैला                       वै बैठती

                                स्‍त्रीलिंग

                हूं बैठूंला                म्‍हे बैठांला

                तूं बैठैला           थे बैठोला

                वा बैठैला           वै बैठैला

11. विधि

पुल्‍लिंग

                   एकवचन                        बहुवचन

                तूं बैठ                                        थे बैठो

                                स्‍त्रीलिंग

                तूं बैठ                                  थे बैठो

12. सम्‍भावना

पुल्‍लिंग

                   एकवचन                        बहुवचन

                हूं बैठूं                                      म्‍हे बैठां

                तूं बैठै                                   थे बैठो

                वो बैठै                                     वै बैठै

                                स्‍त्रीलिंग

                हूं बैठूं                              म्‍हे बैठां

                तूं बैठै                              थे बैठो

                वा बैठै                           वै बैठै

                                          पुर्वकालिक क्रिया

                        बैठनैं,                बैठर,                बैठकर

203.        “हुवणो" क्रिया रुपां में फेरफार घणो है जिणसूं जूदा लिखिया है। यथा-

  1.                                               सामान्य भूत

  पुल्‍लिंग

एकवचन                बहुवचन

        उत्तमपुरुष                        हूं, हुवो                        म्‍हे हुवा

        मध्‍यमपुरुष                        तूं हुवो                        थे हुवा

        अन्यपुरुष                        वो हुवो                        वै हुवा

                        

                                                   स्‍त्रिलिंग

एकवचन                बहुवचन

हूं हुई                        म्‍हे हुई

तूं हुई                        थे हुई

वा हुई                        वै हुई

आसन्न भूत

  पुल्‍लिंग

एकवचन                बहुवचन

        उत्तमपुरुष                        हूं, हुवो हूं                म्‍हे हुवा हां

        मध्‍यमपुरुष                        तूं हुवो        है                थे हुवा हो

        अन्यपुरुष                        वो हुवो         है                वै हुवा है

                        

  स्‍त्रिलिंग

एकवचन                बहुवचन

हूं हुई हूं                        म्‍हे हुई हां

                                 तूं हुई        है                थे हुई हो

वा हुई        है                वै हुई है

पूर्ण  भूत

                                  पुल्‍लिंग

एकवचन                बहुवचन

        उत्तमपुरुष                        हूं, हुवो        हो                म्‍हे हुवाहा

        मध्‍यमपुरुष                        तूं हुवो        हो                थे हुवाहा

        अन्यपुरुष                        वो हुवो        हो                वै हुवाहा

                        

  स्‍त्रिलिंग

एकवचन                बहुवचन

हूं हुई        ही                म्‍हे हुई ही

तूं हुई        ही                थे हुई ही

वा हुई        ही                वै हुई ही

संदिग्‍धभूत

  पुल्‍लिंग

एकवचन                बहुवचन

        उत्तमपुरुष                        हूं, हुवो        हुऊंला                म्‍हे हुवा हुवांला

        मध्‍यमपुरुष                        तूं हुवो        हुवैला                थे हुवा हुवोला

        अन्यपुरुष                        वो हुवो        हुवैला                वै हुवा हुवैला

                        

  स्‍त्रिलिंग

एकवचन                बहुवचन

हूं हुई        हुऊंला                म्‍हे हुई हुवांला

तूं हुई        हुवैला                थे हुई हुवोला

वा हुई हुवैला                वै हुई हुवैला

हेतुहेतुमद्‌ भूत

  पुल्‍लिंग

एकवचन                बहुवचन

        उत्तमपुरुष                        हूं, हुतो, होतो                म्‍हे हुता, होता

        मध्‍यमपुरुष                        तूं हुतो, होतो                थे हुता, होता

        अन्यपुरुष                        वो हुतो, होतो                वै हुता, होता

                        

  स्‍त्रिलिंग

एकवचन                बहुवचन

हूं हुती, होती                म्‍हे हुती, होती

तूं हुती, होती                थे हुती, होती

वा हुई                        वै हुती, होती

अपूर्ण भूत

                                          पुल्‍लिंग

एकवचन                बहुवचन

        उत्तमपुरुष                        हूं, हुतोहो, होतोहो        म्‍हे हुता, होता

        मध्‍यमपुरुष                        तूं हुतो, होतो                थे हुता, होता

        अन्यपुरुष                        वो हुतो, होतो                वै हुता, होता

  स्‍त्रिलिंग

एकवचन                बहुवचन

हूं हुतीही, होतीही        म्‍हे हुतीही, होतीही

तूं हुतीही, होतीही        थे हुतीही, होतीही

वा हुतीही, होतीही        वै हुतीही, होतीही

 सामान्य वर्तमान

  पुल्‍लिंग- स्‍त्रिलिंग

एकवचन                बहुवचन

                                        हूं, हुं                        म्‍हे हां

                                        तूं है                        थे हो

                                        वो वा है                        वै है

    अपूर्ण वर्तमान

                                      पुल्‍लिंग- स्‍त्रिलिंग

एकवचन                बहुवचन

हूं, हूऊंहं, होऊं हूं             म्‍हे हुवांहां, होवांहा

तूं हूवैहै होवेहै           थे हो हुवोहो, होवोह

वो वा हुवैहै होवेहै   वै हुवै है, होवै है

  संदिग्‍ध वर्तमान

        पुल्‍लिंग

एकवचन                बहुवचन

हूं,{ हूतो हूऊंला                म्‍हे{ हुता, हूवांला

              { होतो हूऊंला                       { होता हुवांला

हूं {हूतो हुवैला                थे { हूता हुवोला

                      { होतो,हुवैला                    { होता हुवोला

वो{हूतो हुवैला                वै { हूता, हुवैला

                            {होतो हुवैला                   {होता हुवैला

                                                           स्‍त्रिलिंग

                          एकवचन                बहुवचन

                            हूं,{ हूती हूऊंला                म्‍हे{ हुती, हूवांला

                                { होती हूऊंला                     { होती हुवांला

                             हूं {हूती हुवैला                       थे { हूती हुवोला

                                { होती हुवैला                    { होती हुवोला

                                वो{हूती हुवैला                वै { हूती, हुवैला

                                   {होती हुवैला                   {होती हुवैला

     10.   भविष्‍यत्

                                           पुल्‍लिंग- स्‍त्रिलिंग

                                हूं, हुऊंला, हिऊंला                म्‍हे हुवांला, होवांला

                                  तूं हुवैला, होवैला                           थे हुवोला, होवोला

                                  वो, वा हुवैला होवैला                वै हुवैला होवैला

                                   11.   विधि

                             पुल्‍लिंग- स्‍त्रिलिंग

तूं, हू, हो                थे हुवो, होवो

                                 12.   सम्‍भावना

                              पुल्‍लिंग- स्‍त्रिलिंग

हूं, हुऊ, होऊं                म्‍हे हुवां, होवां

तूं, हुवे, होवै                थे हुवो होवो

वो, वा, हुवै होवै                वै हुवै, होवै

                           पूर्वकालिक क्रिया

                

                हूयनै,           हूयर,        होकर                हो

        उक्‍त उदाहरण सगळा कर्तवाच्‍यरा है अबै कर्म वाच्‍य क्रिया रा उदाहरण दिखाया जावै है।

204.        कर्मवाच्‍य सकर्मक धातुहीज हूवै, अकर्मक नहीं हूवै, कारण अकर्मक कर्म है ईज नहीं, नै         कर्मवाच्‍य में तौ कर्महीज प्रधान है, कर्मही कर्तारा रुप सूं आवै है, कर्ता तो गुप्‍त रैवै है, अथवा  करण रा चिन्हरै साथ आवै है। यथा- पोथी लिखी जावै है। लिखीजै है, राम सूं पोथी लिखी         जावै है। लिखी जै।

205.        कर्मवाच्‍य क्रिया सामान्य भूत क्रिया रै अगाड़ी जावणो इण क्रिया रा रुप लगावणसूं व़णै है. नै         दूजी तरै पण व़णै है. सो रुपां में देख लेवो. यथा-    

सामान्य भूत

पुल्‍लिंग

                        एकवचन                बहुवचन

                हूं{ देखियो गयो                        म्‍हे{ देखिया गया

                   { देखीजियो                             { देखीजिया

                तूं{ देखियो गयो                        थे{देखिया गया

                   {देखीजियो                           {देखीजिया

                वो{ देखीयो गयो                वै{देखिया गया

                    {देखीजियो                            { देखीजिया                          

स्‍त्रिलिंग

                        एकवचन                बहुवचन

                हूँ{ देखी गई                        म्‍हे{ देखी गई

                   { देखीजी                             { देखीजो

                तूं{ देखी गई                        थे{देखी गई

                   {देखीजी                           {देखीजी

                वो{ देखी गई                        वै{देखिया गया

                    {देखीजी                               { देखीजी  

आसन्न भूत

पुल्‍लिंग

                        एकवचन                बहुवचन

                हूँ{ देखीयो गयो हूं                म्‍हे{ देखिया गया हां

                   { देखीजियो हूं                             { देखिजिया हां

                तूं{ देखियो गयो है                थे{देखीया गया हो

                   {देखीजियो है                           {देखीजिया हो

                वो{ देखियो गयो है                वै{देखिया गया है

                    {देखीजियो है                              { देखीजिया है  

स्‍त्रिलिंग

                        एकवचन                        बहुवचन

                हूँ{ देखी गई हूं                         म्‍हे{ देखी गई हां

                   { देखीजी हूं                              { देखीजी हां

                तूं{ देखी गई है                         थे{देखी गई ही

                   {देखीजी ही                           {देखीजी ही

                वो{ देखी गई है                        वै{देखी गई है

                    {देखीजी है                              { देखीजी है

पूर्ण भूत

पुल्‍लिंग

                        एकवचन                बहुवचन

                हूँ{ देखीयो गयो हो                म्‍हे{ देखिया गया हा

                   { देखीजियोहो                             { देखिजिया हा

                तूं{ देखियो गयो हो                थे{देखीया गया हा

                   {देखीजियो हो                               {देखीजिया हा

                वो{ देखियो गयो हो                वै{देखिया गया हा

                    {देखीजियो हो                      { देखीजिया हा  

स्‍त्रिलिंग

                        एकवचन                बहुवचन

                हूँ{ देखी गई ही                 म्‍हे{ देखी गई ही

                   { देखीजी ही                              { देखीजी ही

                तूं{ देखी गई ही                             थे{देखी गई ही

                   {देखीजी ही                           {देखीजी ही

                वो{ देखी गई ही                            वै{देखी गई ही

                    {देखीजी ही                              { देखीजी ही

                                         4.संदिग्‍ध भूत

पुल्‍लिंग

                        एकवचन                बहुवचन

                हूँ{ देखीयो गयो हुऊंला                म्‍हे{ देखिया गया हुवांला

                   { देखीजियोहुऊंला                     { देखिजिया हुवांला

                तूं{ देखियो गयो हुवैला                थे{देखीया गया हुवोला

                   {देखीजियो हुवैला                   {देखीजिया हुवोला

                वो{ देखियो गयो हुवैला                     वै{देखिया गया हुवैला

                    {देखीजियो हुवैला                      { देखीजिया हुवैला 

स्‍त्रिलिंग

                        एकवचन                बहुवचन

                हूँ{ देखी गई हुऊंलां                 म्‍हे{ देखी गई हुवांला

                   { देखीजी हुऊंला                      { देखीजी हुवांला

                तूं{ देखी गई हुवैला                 थे{देखी गई ही

                   {देखीजी हुवैला                 {देखीजी हुवोला

                वो{ देखी गई हुवैला                वै{देखी गई हुवैला

                    {देखीजी हुवैला                      { देखीजी हुवैला

                                 5. हेतुहेतुमद्‌ भत

पुल्‍लिंग

                        एकवचन                बहुवचन

                हूँ{ देखीयो जावतो                म्‍हे{ देखिया जावता

                   { देखीजतो                             { देखीजता हा

                तूं{ देखियो जावतो                थे{देखीया जावता

                   {देखीजितो                           {देखीजता

                वो{ देखियो जावतो                वै{देखिया जावता

                    {देखीजतो                              { देखीजता  

स्‍त्रिलिंग

                        एकवचन                बहुवचन

                हूँ{ देखी जावती                    म्‍हे{ देखी जावती

                  {देखीजती                             { देखीजती

                तूं{ देखी जावती                         थे{देखी जावती

                   {देखीजी ही                           {देखीजती

                वो{ देखी जावती                वै{देखी जावती

                    {देखीजती                              { देखीजती

                                6.अपूर्ण भत

पुल्‍लिंग

                        एकवचन                बहुवचन

                हूँ{ देखीयो जावतो हो                म्‍हे{ देखिया जावता हा

                   { देखीजतो हा                                { देखीजता हा

                तूं{ देखियो जावतो हो                थे{देखीया जावता हा

                   {देखीजितो हो                              {देखीजता हा

                वो{ देखियो जावतो हो                  वै{देखिया जावता हा

                    {देखीजतो हो                                 { देखीजता हा 

स्‍त्रिलिंग

                        एकवचन                बहुवचन

                हूँ{ देखी जावती ही                   म्‍हे{ देखी जावती ही

                  {देखीजती ही                             { देखीजती ही

                तूं{ देखी जावती ही                 थे{देखी जावती ही

                   {देखीजती ही                           {देखीजती ही

                वो{ देखी जावती ही                वै{देखी जावती ही

                    {देखीजती ही                             { देखीजती ही

                        7.सामान्य वर्तमान 8. अपूर्ण वर्तमान

                                    पुल्‍लिंग

                        एकवचन                बहुवचन

                हूँ{ देखीयो जाऊं हूं                म्‍हे{ देखिया जावां हां

                   { देखीजूं                             { देखीजां हां

                तूं{ देखियो जावै है                थे{देखीया जावो हो

                   {देखीजै                          {देखीजो हो

                वो{ देखियो जावै है                वै{देखिया जावै है

                    {देखी जै है                          { देखीजै है

स्‍त्रिलिंग

                        एकवचन                बहुवचन

                हूँ{ देखी जाऊं हूं                              म्‍हे{ देखी जावां है

                  {देखीजूं  हूं                             { देखीजां हां

                तूं{ देखी जावै है                             थे{देखी जावो हो

                   {देखीज़ै है                           {देखी जो हो

                वो{ देखी जावै        है                वै{देखी जावै है

                    {देखीजै है                           { देखीजं है

                                9.संदिग्‍ध वर्तमान

पुल्‍लिंग

                        एकवचन                बहुवचन

                हूँ{ देखियो जावतो हूऊंला        म्‍हे{ देखिया जावता हुवांला

                   { देखीजतो हुऊंला                     { देखीजता हुवांला

                तूं{ देखियो जावतो हुवैला        थे{देखिया जावता हुवैला

                   {देखीजता हुवैला                  {देखीजता हुवोला

                वो{ देखियो जावतो हुवैला        वै{देखी जावता हुवांला

                    {देखीजतो हुवैला                  { देखीजता हुवैला

स्‍त्रिलिंग

                        एकवचन                बहुवचन

                हूँ{ देखी जावती हूऊंला                   म्‍हे{ देखी जावती हूवांला

                  {देखीजती हुऊंला                            { देखीजती हुवांला

                तूं{ देखी जावती हूवैला                 थे{देखी जावती हूवोला

                   {देखीजती हुवैला                   {देखीजती हुवेला

                वो{ देखी जावती हुवैला                   वै{देखी जावती हुवैला

                    {देखीजती                           { देखीजती हुवैला

                                10.भविष्‍यत्

पुल्‍लिंग

                        एकवचन                बहुवचन

                हूँ{ देखियो जाऊंला                म्‍हे{ देखिया जावांला

                   { देखीजूंला                             { देखीजांला

                तूं{ देखियो जावैला                थे{देखिया जावोला

                   {देखीजैला                          {देखीजोला

                वो{ देखियो जावैला                वै{देखी ज़ार्वला

                    {देखीजैला                          { देखीजैला

स्‍त्रिलिंग

                        एकवचन                बहुवचन

                हूँ{ देखी जाऊंला                           म्‍हे{ देखी जावांला

                  {देखीजूंला                                  { देखीजांला

                तूं{ देखी जावैला                         थे{देखी जावोला

                   {देखीजैला                              {देखीजोला

                वो{ देखी जावैला                वै{देखी जावैला

                    {देखीजैला                             { देखीजैला

11. विधि

पुल्‍लिंग

                     एकवचन                बहुवचन

          तूं{ देखियोजा                        थे{ देखियाजा

  { देखीज                               { देखी

स्‍त्रीलिंग

                     एकवचन                बहुवचन

          तूं{ देखिजा                        थे{ देखी जावो

   { देखीज                             { देखीजो

12. संभावना

पुल्‍लिंग

                     एकवचन                बहुवचन

          हूं{ देखियो जाऊं                        म्‍हे{ देखिया जावां

            { देखीजूं                                { देखीजां

        तूं { देखीया जावै                             थूं{ देखीया जावो

            { देखीजै                                   { देखीजो

     वो{ देखियो जावै                      वै{ देखिया जावै

        { देखीजै                               { देखीजै

स्‍त्रीलिंग

                     एकवचन                बहुवचन

हूं{ देखी जाऊं                म्‍हे{ देखीजावा

 { देखीजूं                   {देखीजां

                  तूं{ देखिजावै                   थे{ देखी जावो

                     { देखीजै                             { देखीजो

         वा{ देखीजावै                        वै{ देखीजावै

   { देखीजै                          { देखीजै

पूर्वकालिक क्रिया

पुल्‍लिंग

        {देखियो जायनै        {देखियो जायर                        { देखियो जाकर

        {देखीजनैं                {देखीज                        {देखीजकर

                        

                                        स्‍त्रिलिंग

                {देखीजायनैं                {देखीजायर                {देखीजाकर

                {देखीजनैं                {देखीजर                {देखीजकर

                                        11.विधिक्रिया

206.        जो क्रियावारां रुप ऊपर दिखाया है, उणां सिवाय विधि क्रियारा च्‍यार प्रकार फेर है।

  1. आदरपूर्वक विधि
  2. परोक्ष विधि
  3. आशिष विधि
  4. प्रार्थना विधि

1. आदरपूर्वक विधि

पुल्‍लिंग वा स्‍त्रीलिंग

        म. पु. लिखावै, करावै, दिरावै, लिरावै, पधारै, इत्‍यादि।

2. परोक्ष विधि

पुल्‍लिंग वा स्‍त्रीलिंग

        म.पु.{ एकवचन लिखजे, करजे, दीजे, लीजे, जाईजे।

                {बहुवचन लिखजो, करजो, दीजो, लीजो, जाईजो, इत्‍यादि।

3. आशिष विधि

 पुल्‍लिंग वा स्‍त्रीलिंग

        म.पु।{ एकवचन चिरंजीव हुईजे, इत्‍यादि।

                {बहुवचन चिंरजीव हुईजो, इत्‍यादि।

4.प्रार्थना विधि

        म.पु.- लिखाय दिरावै, लिखाय दिरावो इत्‍यादि।

207.        किताक धातुवारां रुप सामान्यभूत, आसन्नभूत, पूर्णभूत और संदिग्‍धभूत में साधारण रीति सूं         नही व़णै है इणारां रुप नकसा में देखो।

                                प्रेरणार्थक और व्दिकर्मक

208.        क्रियारा सकर्मक और अकर्मक जो दोय प्रकार दिखाया है उणां सिवाय क्रियारा दोय प्रकार

        फेर है.

  1. प्रेरणार्थक
  2. व्दिकर्मक

209.        प्रेरणार्थक क्रिया में प्रेरणा पाई जावै है।

                यथा- राम श्‍याम सूँ कागद लिखवावै है।

        टिप्‍पण- अठै श्‍याम कागद लिखै है जिणनैं राम प्रेरणा करै है कै तूं कागद लिख, जिणसूं आ

        क्रिया प्रेरणार्थक हैं।

210.        इण क्रिया में पैलीरि कर्ता अर्थात् जिणनै प्रेरणा की जावै वो प्रयोज्‍य कर्ता, नै दूजो अर्थात्         प्रेरणा करणवाळो प्रयोजक कर्ता कहीजै. प्रयोज्‍य कर्ता रै करणरो चिन्ह "सूं" लगायो जावै है नै         प्रयोजक कर्ता कर्तारा रुप में आवै है।

        टिप्‍पण-  प्रेरणार्थक क्रिया जिण वाक्‍यरा आधरसूं व़णाई जावै है वो वाक्‍य व़णायो जावै है वो

        दूजो वाक्‍य है।

        प्रथम वाक्‍य- “श्‍याम कागद लिखै है.”

        दूजो वाक्‍य- “राम श्‍याम सूं कागद लिखवावै है.” अठै प्रथम वाक्‍यरो कर्ता श्‍याम प्रयोज्‍य कर्ता

        है उणरै "सूं" चिन्ह लगायो गयो है और प्रेरणा करणवाळो राम प्रयोजक कर्ता है वो कर्तारा         रुप में हैं।

211.        अकर्मक सूं सकर्मक और प्रेरणार्थक, तथा सकर्मक सूं प्रेरणार्थक क्रिय वक्ष्‍यमाण रीतिसूं वंणाई         जावै है.

212.        किताक अकर्मक धातुवांरै अतं में "आव" प्रत्‍यय लागवण सूँ सकर्मक, और "वाव"  प्रत्‍यय         लगावण सूं  प्रेरणार्थक क्रिया व़णै है और जो आदि स्‍वर दीर्घ हुवै तौ ह्रस्‍व1 करलियो जावै         यथा-

        अकर्मक                        सकर्मक                        प्रेरणार्थक        

        चडणो                                चडावणो                        चडवावणो

        दबणो                                दबावणो                        दबवावणो

        उडणो                                उडावणो                        उडवावणो

        बैठणो                                बैठावणो                        बैठवावणो

        व़दणो                                व़दावणो                        व़दवावणो

        घटणो                                घटावणो                        घटवावणो

        मरणो                                मरावणो                        मरवावणो

        रमणो                                रमावणो                        रमवावणो

        चमकणो                        चमकावणो                        चमकवावणो

        —————————————————————————————————————

        1.दीर्घ स्‍वर नैं ह्रस्‍व इण रीति सूं हवै है- दीर्घ स्‍वर                ह्रस्‍व स्‍वर

                                                      आ.......                .....अ.

                                                      ई. ए. ऐ.                ..... इ.

                                                      ऊ. ओ. औ.                ..... उ.

        पिगळणो                        पिगळावणो                        पिगळवावणो

        भटकणो                        भटकावणो                        भटकवावणो

        सरकणो                        सरकावणो                        सरकवावणो

        लटकणो                        लटकावणो                        लटकवावणो

        चालणो                                चलावणो                        चलवावणो

        ऊठणो                                ऊठावणो                        ऊठवावणो

        उभणो                                उभावणो                        उभवावणो

        घूमणो                                घूमावणो                        घूमवावणो

        जागणो                                जगावणो                        जगवावणो

        सूबणो                                सुबावणो                        सुवावावणो

        मूडणो                                मूडावणो                        मुडवावणो

213.        किताक अकर्मक धातु, आदि  स्‍वरनैं दीर्घ करण सूं सकर्मक, नै "आव" तथा "वाव" प्रत्‍यय         लगावणसूं प्रेरणार्थक व़णै है। यथा-

        अकर्मक                        सकर्मक                        प्रेरणार्थक

        मरणो                                मारणो                                मरावणो, मरवावणो

        कटणो                                काटणो                                कटावणो, कटवावणो        

        गमणो                                गमाणो                                गमावणो, गमवावणो

        पलणो                                पाळणो                                पळावणो, पळवावणो        

        लदणो                                लादणो                                लदावणो, लदवावणो

        पड़णो                                पाड़णो                                पड़ावणो, पड़वावणो

214.        किताक अकर्मक धातु, आदिरा इकार तथा उकार मैं गुण करण सूं सकर्मक, नै "आव" प्रत्‍यय         तथा "वाव" प्रत्‍यय लगावण सूं प्रेरणार्थक व़णै है। यथा-  

        अकर्मक                        सकर्मक                        प्रेरणार्थक

        घिरणो                                घेरणो                                घिरावणो, घिरवावणो

        फिरणो                                फेरणो                                फिरावणो, फिरवावणो        

        खुलणो                                खोलणो                                खुलावणो, खुलवावणो

        मुड़णो                                मोड़णो                                मुड़ावणो, मुड़ावावणो        

        जुड़णो                                जोड़णो                                जुड़ावणो, जड़वावणो

————————————————————————————————————————

  1. गुण इण रीति सूं हुवै. यथा-

इ, ई ....   .... ए

उ, ऊ ....  .... ओ

ऋ, ऋ .... .... अर

215.         कितीक सकर्मक और प्रेरणार्थक क्रिया नियम विरुद्ध है. यथा-

        अकर्मक                        सकर्मक                        प्रेरणार्थक

        चिरीजणो                        चीरणो                                चिरावणो, चिरवावणो

        छुटणो                                छोड़णो                                छुड़ावणो, छुधवावणो        

        टूटणो                                तोड़णो                                तुड़ावणो, तुड़वावणो

        फाटणो                                फाड़णो                                फड़ावणो, फड़वावणो        

        फूटणो                                फोड़णो                                फुड़ावणो, फुड़वावणो

        भीजणो                                भीजवणो                        भीजवावणो

        व़िकणो                                व़ेचणो                                व़िकावणो, व़िकवावणो

        बिखरणो                        बिखेरणो                        बिखरावणो, बिखरवावणो

        रैवणो                                राखणो                                रखावणो, रखवावणो

216.        “आव" प्रत्‍यय लगावण सूं जो अकर्मक सूँ सकर्मक, नै सकर्मक सूं द्विकर्मक व़णै उणांरे         प्रेरणार्थक में "आव" प्रत्‍यय नहीं लगायो जावै।

217.        किताक अकरमक धातुवांरी सकर्मक प्रेरणार्थक व़णै हीज नहीं

                यथा-  आवणो, हुवणो, सकणो इत्‍यादि।

218.        सकर्मक धातुरै "आव" तथा "वाव" प्रत्‍यय लगावण सूं प्रेरणार्थक क्रिया व़णै है, और जो आदि         स्‍वर दीर्घ हुवै तौ ह्रस्‍व कर लियो जावै है।

        सकर्मक                        प्रेरणार्थक

        करणो                                करावणो, करवावणो

        लिखणो                                लिखावणो, लिखवावणो

        रंगणो                                रंगावणो, रंगवावणो

        खोसणो                                खोसावणो, खोसवावणो        

        भरणो                                भरावणो, भरवावणो

        तोड़णो                                तोड़ावणो, तोड़वावणो

        पूछणो                                पुछाणो, पुछवावणो

        पूंछणो                                पुंछावणो, पुंछवावणो

        लूंटणो                                लुंटावणो, लुंटवावणो

————————————————————————————————————————

        १. ह्रस्‍व स्‍वर नैं दीर्घ इण रीति सूं हुवै. यथा- ह्रस्‍व स्‍वर        दीर्घ स्‍वर

                                                        अ. ....                .... आ

                                                        इ. ....                .... ई

                                                        उ. ....                 .... ऊ

219.        कितीक प्रेरणार्थक क्रिया उक्त नियम विरुद्ध है और कितीकरा इकेवड़ा रुप हुवै। यथा -

        सकर्मक                        प्रेरणार्थक

        लेवणो                                लिरावणो, लिरवावणो

        देवणो                                दिरावणो, दिरावावणो

        सींवणो                                सिंवावणो

        खावणो                                खवावणो

        पीवणो                                पिवावणो

                                द्विकर्मक

220.        जिण क्रिया रै दोय कर्म हुवै वा द्विकर्मक क्रिया कहीजै।

        टिप्‍पण- द्विकर्मक क्रिया पण प्रेरणार्थक क्रिया रै ही अन्‍तर्गत है। द्विकर्मक क्रिया में         प्रेरणार्थक क्रिया में तो प्रयोज्‍यकर्ता "सूं" चिह्न रै साथ करणारा रुप में आवै् परंत द्द्विकर्मक  

        क्रिया में प्रयोज्‍यकर्ता "नै" चिह्न रै साथ कर्मरा रुप में आवै सो कर्म दोय हुवणां सूं आक्रिया         द्विकर्मक है।

                यथा- गुरु शिष्‍य नैँ वेद पडावै है।

        टिप्‍पण- अठै प्रयोज्‍यकर्ता शिष्‍य कर्मरा रुप में आयो है जिणसूं इण वाक्‍य में एक कर्म तो         शिष्‍य नै दूजो कर्म वेद है। अठै मुख्‍य कर्म वेद और गौण कर्म शिष्‍य है।

221.        कर्म दोय प्रकार रो है।

  1. मुख्‍य
  2. गौण

222.         कर्ता आपरी क्रिया द्वारा जिण नैं अत्‍यन्‍त इष्‍ट समजै वो मुख्‍य कर्म।

        टिप्‍पण- ओ कर्म बहुधा द्विकर्मक क्रिया में अप्राणी वाचक हुवै है।

                यथा- मिस्‍तरी घड़ी नैं चलावै है, दरजी कपड़ो सींवै है।

223.        इण सूं भिन्न वो गौण कर्म।

        टिप्‍पण- ओ कर्म बहुधा द्विकर्मक क्रिया में प्राणी वाचक हुवै है।

                यथा- राम श्‍याम नैं वेद पडावै है।

224.        किताक सकर्मक धातु "आव" प्रत्‍यय लगावण सूं द्विकर्मक और "वाव" प्रत्‍यय लगावण सूं         प्रेरणार्थक व़णै है। और धातु नैं आदेश निपात1 सूं हुवै।

————————————————————————————————————————

  1. शब्‍द में फैर हुजावणो, अथवा शब्‍द तो स्‍वरुप व़दल जावणो ओ निपात कहीजै.

        

        सकर्मक                        द्विकर्मक                        प्रेरणार्थक

        जाणणो                                व़तावणो                        व़तवावणो

        देखणो                                दिखावणो                        दिखवावणो

        सीखणो                                सिखावणौ                        सिखवावणो

        पीवणो                         पावणो                                पिवावणो

        जावणो                                लेजावणो                        

        जीमणो                                जिमावणो                        जिमवावणो

        पडणो                                पडावणो                        पडवावणो

        व़ाचणो                                व़चावणो                        व़चवावणो

                                        परतन्‍त्र क्रिया

225.        सकणो और चूकणो ऐ क्रियावां स्‍वतंत्र नहीं है, परतन्‍त्र है।

        टिप्‍पण- जिण सूं हीज ऐ क्रियांवां अकेली नहीं आवै, किणी दूजी क्रियारै साथे जुड़र आवै।

                        यथा- करसकै है, पीचूको है।

                                        संयुक्‍त क्रिया

226.        दो क्रियांवां जुड़र जो एक क्रिया व़णै वा संयुक्‍त क्रिया कहीजै है।

        यथा- देख आवणो, बोल- ऊठणो। काट-नाखणो, देख- चूकणो, लिख-सकणो, मार बैठणो, हू- रैवणो,         लेलेवणो, देदेवणो, खाय-जावणो, चालण-लागणो, सोवण देवणो, कींया- जांवणो, दाया-करणो. गयां-         चावणो इत्‍यादि।

                                        कृदन्‍त

227.        क्रिया सूं अथवा धातु सूं जो प्रत्‍यय हुवै वो कृत् प्रत्‍यय कहींजै। कृत् प्रत्‍यय लगावण सूं जो         शब्‍द व़णै वो कृदन्‍त।

228.        शब्‍द तीन प्रकाररा है-

  1. क्रिया प्रतिरुपक
  2. विशेष्‍य
  3. विशेषण
  1. क्रिया प्रतिरुपक

229.        जि क्रिया रो काम देवै वो क्रिया प्रतिरुपक।

                यथा- करणो चहीजै इत्‍यादि।

230.        क्रिया रै अगाड़ई योग्य अर्थ में "चहीजै", चहीजतो हो, हो" ऐ प्रत्‍यय लगावण सूं क्रिया         प्रतिरुपक शब्‍द व़णै है। नै स्‍त्रिलिंग में"ओ" नैँ "ई" आतेश हुवै।  यथा-

        पुल्‍लिंग                                स्‍त्रिलिंग

        करणो चहीजै                        करुणी चहीजै

        करणो चहीजतोहो                करणी चहीजतीही

        करणो हो                        करणी ही

विशेष्‍य

231.        जो प्रधान संज्ञा है वो विशेष्‍य।

        कृदन्‍त दिय प्रकाररो है।

        १. व्‍यापार बोधक, भाववाचक

        २. करणवाचक

232.        व्‍यापार बोधक भाववाचक  शब्‍द नीचे लिखी रीति सूं व़णायोजावै है।

233.        किताक भाववाचक शब्‍द धातु रुपहीज है।

                यथा- विचार, पुकार इत्‍यादि.

234.        किताक धाव वाचक शब्‍द क्रिया रुपहीज है।

                यथा- गावणो, सोवणो इत्‍यादि।

235.        किताक धातुवांरा अन्‍त्‍य अक्षर नैं "स, ट, ण, न" इत्‍यदि आदेश करण सू! भाववाचक वणै है।

                यथा- स, समजास, फुरमास इत्‍यादि.

                 ट- चिल्‍लाट, घबराट इत्‍यादि.

                ण- लैण, दैण इत्‍यादि.

                न- गान, खान, पान इत्‍यादि.

236.        किताक क्रिया वांरा "ओ" रो लोप करण सूं भव वाचक व़णै है।

                यथा-सींवण मरण इत्‍यादि।

237.        किताक धातुवांरै :आव, आप आळ, वाद, आई, वाई, ई आवट, ओ" इत्‍यादि प्रत्‍यय लगावण सूं

        भाववाचक व़णै और धातु नैं निपात सूं आदेश हुवै। यथा-

                                आव- चडाव, घटाव इत्‍यादि.

                                आप- मिलाप, इत्‍यादि.

                                आळ- उछाळ इत्‍यादि.

                                वाद- बकवाद इत्‍यादि.

————————————————————————————————————————

1. एवज में आवै वो आदेश।

आई- ठगाई, धराई, मंमाई, सिंवाई, तुलाई, दिखाई इत्‍यादि.

वाई- सुणवाई, तुलवाई, धरवाई, दिखवाई इत्‍यादि.

ई- मरी, हंसी, ठारी इत्‍यादि.

आवट- व़णावट, सजावट,जमावट इत्‍यादि.

ओ- झांको इत्‍यादि.                

238.        किताक भाववाचक शब्‍द नियम विरुद्ध है.

        यथा- रंगत, पिस्‍तावो, भागड़, उगत, कैणावट, कवावत, कैणावत, मौत, रोज, बैठक, रैणगत इत्‍यादि.

                                        करणावचक

239.        जिण पदार्थ द्वारा कर्ता काम करै वो करण वाचक।

        यथा- चालणी, ढकणी इत्‍यादि।

240.        धातु रै अगाड़ी, 'णी, णो, ळो, ण, ई, ओ, ळौ' इत्‍यादि प्रत्‍यय लगावण सूं करणवाचक शब्‍द व़णै।

        और धातुनैं निपात सूं अदेश हुवै। यथा-

                णी- चालणी, ढकणी, ओरणि, कुतरणी इ्‍त्‍यादि।

                णो- ओरणो, ढकणो इत्‍यादि.

                ळो- छाजळो, खुदाळो इ्‍त्‍यदि.

                ण- लेखण, छींण, वेलण इ्त्‍यादि.

                ई- चुसकी, टांकी, अगरखी, पगरखी, संमासी, कुरछी इत्‍यादि.

                ओ- छाजो, हीमो, कुस्‍सो, चींपियो इत्‍यादि.

                ळी- छजळौ इत्‍यादि.

241.        किताक करणवाचक शब्‍द नियम विरोद्ध है।

                यथा- छाज इत्‍यादि.

                                        विशेषण

242.        कृदंत विशेषण तीन प्रकाररो है।

  1. कतृवाचक
  2. कर्मवाचक
  3. क्रियाधोतक

243.        जिण सूं कर्तापणरो बोध हुवै वो कतृवाचक।

                यथा- करणवाळो, गवैयो, जड़ियो लेखक, पुजारी इत्‍यादि.

244.        धातुरै अगाड़ी "वाळो, ऐयो, इयो, क, री, आक" इत्‍यादि प्रत्‍यय लगावण सूं कतृवाचक व़णै और         धातुनें निपात सूं आदेश  हुवै। यथा-

                वाळो- करणवाळो, धरणवाळो, चालणवाळो इत्‍यादि।

                ऐयो- गवैयो, चवैयो इत्‍यादि।

                इयो- जड़ियो, लिखियो, इत्‍यादि.

                क- लेखक, पाठक इत्‍यादि.

                री- पूजारी, भिखारी इत्‍यादि.

                आक- रमाक, दौड़ाक कुदाक इत्यादि.

245.        जिण सूं कर्मत्वरो बोध हुवै वो कर्मवाचक।

                यथा-  देखियोड़ो, देखियोड़ी इत्यादि.

246.        धातु रै अगाड़ी "इयोड़ौ, इयो हुवो" इत्यादि प्रत्यय लगावण सूं कर्म वाचक व़णै और धातु नै         निपातसूं आदेश हुवै.

                यथा- देखियोड़ो, देखियोहुवो, देखियोड़ो, देखी हुई, कीयोड़ो, कीयो हुवो, कीयोड़ी, कीवी हुई,         कीहुई,         रंगियोड़ो, सजियोड़ो इत्यादि।

247.        जिणसूं वर्तमान क्रिया रो बोध हुवै वो क्रिया धोतक।

                यथा- देखतोथको, देखतो इत्यादि.

248.        हेतुहेतुमद्‌ रै अगाड़ी "थको' प्रत्यय लगावणसूं" क्रियाधोतक संज्ञा व़णै और केवल हेतुहेतुमद्‌         पण  क्रियाधोतक में काम आवै है।

                यथा-  देखतोथको, देखतो इ्त्यादि.

249.        किताक शब्‍द निपातसूं सिद्ध हुवै और उणां में धातु तथा प्रत्यय शब्दरै अनुसार समझ लेणा.

                यथा- लोटो, गऊं, कपड़ों, दीयो, लकड़ो, व़ाड़ कांटो, घोड़ो, ऊंट, बळद, नाल, गरदन, आंख         इत्यादि।

                                        तद्धित

250.        जो प्रत्यय शब्‍द सूं हुवै वो तद्धित
        तद्धित प्रत्यय जिणरै अन्त में आवै वो तद्धितांत।

251.        तद्धितांत शब्द दोय प्रकार रो है।

  1. विशेष्‍य
  2. विशेषण

252.        तद्धितांत विशेष्‍यरा च्यार भेद है।

  1. अपत्यवाचक
  2. कतृवाचक
  3. भाववाचक
  4. ऊनवाचक
  1. अपत्‍य वाचक

253.        जिण सूं उणरो बेटो और औलाद समजी जावै वो अपत्य वाचक है।

                        यथा- रामोत

        रामोत कैणासूं रामरो बेटो अथवा उणरो औलादरो समजियो जावै है।

254.        नाम वाचक शब्द रै अगाड।इ "ओत, वत, आंणी" इत्यादि प्रत्यय  लगावण सूं अपत्यवाचक         व़णै है

                यथा- रामीत, जसवंतसिंहोत, चांपावात, ऊदावात, चतांणी इत्यादि.

255.        संज्ञा में अगाड़ी "बालौ, इयो, ई, दार, आर, आरो, गर, वांन, एती, वाई, वट, यो, वार, ओ" इत्यादि         प्रत्यय लगावणसुँ कतृवाचक व़णै है.

                वाळो- भारीवाळौ, पांणीवाळौ इत्यादि.

                इयो- आड़तियो, कांसटियो इ्त्यादि.

                ई- तेली, लखी, सोनी, करोड़ी, घांची, विसायती इत्यादि।

                दार- जमीदार, दुकानदार, रसोईदार, चोपदार, छड़ीदार, डोडीदार इत्यादि.

                आर- सुनार, लवार इत्यादि.

                गर- सोदागर, कारीगर इत्यादि.

                वांन- बागवांन, गामीवांन इत्यादि।

                एती- गांवेती इत्यादि.

                वाई- धडवाई इत्यादि.

                वट- सिलावाट इत्यादि।

                यो- लोयो इ्त्यादि.

                वार- उमेदवार इत्यादि।

                ओ- ढूबो इत्यादि.

                                        भाववाचक

256.         संज्ञारै अगाड़ी "त्व, ता, पणो, पोप, आई, ई, स, ट, याप"इत्यादि प्रत्यय लगावणसूं भाव वाचक         व़णै है। यथा-

        त्व- गुणत्व, ब्राह्मणत्व इत्यादि.

ता- गुणता, ब्राह्मणत्व इत्यादि.

पणो- गुणीपणो, ब्राह्मणपणो इत्यादि.

पो- भुडापो इत्यादि.

आई- चतुराई पंडिताई इत्यादि.

- लम्बाई चौड़ाई इत्यादि.

- पीलास खटास इत्यादि.

- चिरपराट चरपराट, घरोट इत्यादि.

याप- धणियाप इत्यादि.

ऊनवाचक

257.          जिणसूं छौटापणो पायो जावै वो ऊनवाचक।

यथा- छबोलियो इत्यादि.

258.          संज्ञा रै अगाड़ी “इयो, , ओलियो, कोलियो,लो,डको, डी, णो” इत्यादि प्रत्यय लगावणसूं         ऊनवाचक शब्‍द व़णो है।

इयो- कळस-कळसियो, कामळ-कमळियो, मिनको-मिनकियो इत्यादि .

- डालो-डाली,लाटो-लोटी, कुरछो-कुरछी, कमाव- कमाई इत्यादि.

ओलियो- छाब- छाबोलियो इत्यादि।

कोलियो- घर- घरकोलियो इत्यादि

लो- गाडो-गाडूलो, कडाव-कडायलो इत्यादि।

डको- गांव- गांवडको इत्यादि.

डी- राब-राबड़ी, घाट-घाटड़ी इत्यादि.

णी- ढोलियो-ढोलणी इत्यादि.

259-          किताक शब्‍द नियम विरुद्ध है.

यथा- मारग- डांडी, गिदरो-गादी, घोड़ो- टारड़ो इत्यादि.

            2. विशेषण

260-          संज्ञा रै अगाड़ी “ओ, , इयो, लो, ईलो, आळो, लू, , वान्, वंत, वाळो,मान , री”         इत्यादि प्रत्यय लगावणसूं विशेषण व़णै है।

- ठंडो, मैल-मैलो, भूक-भूको, तिस-तिसो, गज- गंजो इत्यादि.

                ई-  धन- धनी, दुख-दुखी, रोग-रोगी ,भार-भारी, सूत- सूती, गुण-गुणी इत्यादि.

                इयो- खटपट- खटपटियो, सूतक-सूतकियो इत्यादि।

                लो- रोग-रोगलो, चांय-चांयलो इत्यादि।

                ईलो- रंग-रंगीलो, रोग-रोगीलो इत्यादि.

                आलो- नखरो-नखराळो इत्‍यादि.

                ळू- झगड़ो- झगड़ाळू दया-दयाळू इत्यादि.

                वान्- धन- धनवान्, बुद्धि- बुद्धिवान् इत्यादि.

                वंत- धन- धनवंत, कुल- कुलवंत इत्यादि.

                वाळो- धन- धनवाळो, गुण-गुणवाळो इत्यादि.

                मान्- बुद्धि-बुद्धिमान् इत्यादि.

                री- सोनो-सोनेरी, रुपो-रुपेरी इत्यादि.

                                        स्त्री प्रत्यय

261.        पुरुष वाचक शब्‍दांरै अगाड़ी "ई, णी, अण, यांणी, आंणी" इणां प्रत्ययांरा जोड़णां सूं स्त्रीवाचक         संज्ञा व़णै है. यथा-

                ई- ब्राह्मण- ब्राह्मणी, घोड़ो- घोड़ी इत्यादि.

                णी- जाट- जाटणी इत्यादि.

                अण- तेली-तेलण, तंबोली- तंबोळण इत्यादि.

                यांणी- भाटी-भटियांणी इत्यादि.

                आंणी- राजपूत- राजपूतांणी इत्यादि.

                                        अव्‍यय

262.        जिण में लिंग, वचन कारक नहीं हुवै तो अव्‍यय.

263.        अव्‍यय पांच प्रकाररो है.

  1. क्रिया विशेषण
  2. सम्‍बन्‍ध सूचक
  3. उपसर्ग
  4. समुच्चायक
  5. विस्‍मयादिबोधक
  1. क्रिया विशेषण

264.         जिणसूं क्रिया विशेष स्‍थान, विशेष भाव वा विशेष रीति आदि जाणियो जावै वो क्रिया         विशेषण।

265.        क्रिया विशेषण नव प्रकाररा है।

  1. कालवाचक
  2. स्‍थानवाचक
  3. भाववाचक
  4. रीतिवाचक
  5. परिणामवाचक
  6. निषेधवाचक
  7. निश्‍चयवाचक
  8. अनिश्‍चयवाचक
  9. संयुक्त।
  1. 1.कालवाचक

                अबार        आज        पैलैदिन                सरबदा                कदैईसैक        कदैई

                जद        कालै        तड़कै                फेर                करां                किणबगत

                कद        पिरसूं        परबातै                सेवट                जरां                जिणबगत

                तद        सवारै        सदा                बारंबार                तुरंत                इणबगत

                उणबगत        हमार                पछै

                                        2.स्‍थानवाचक

                अठै        जठै        उठीनैं        वार        समीप        दूर        कनैं

                उठै        तटै        कठीनैं        पार        निकट        नैडो

                कठै        अठीनैं        जठीनैं        सर्वत्र        नजीक        आगो

                                        3.भाववाचक

                कदास                झटपट                यथार्थ                परबारो                निकम्‍मो

                अचाणक        ठीक                साचमाच        तुंरत                साचांणी

                अर्थात्                यधपि                वृथा                परस्‍पर                हकनाक

                अकस्‍मात्        तथापि                आपस                झूटांणी                नाहक

                केवल                निरंतर                शीघ्र                अणूंतो                निरर्थक

                हां                तो                पण                स्‍वयं                आपो

                जांणे                मानूं                पिण                झट                जेज

रीतिवाचक

        जिऊं, तिऊं, यूं, जिणतरै, किणतरै, उणतरै, इणतरै, यथा, त्या इत्यादि।

परिणामवाचक

        अति, अत्यंत, अतिशय, घणो, थोड़ो, कांईक, थोड़ोसो, थोड़ोसोक, कित्तो, कित्तोसोक, एकवार,         दोयवार, प्राय:, बहुधा, घणोकरनै इत्यादि।

1.निषेधवाचक

        मां, ना, न, नहीं, मत, बस रैवणदो इत्यादि.

2.अनिश्‍चयवाचक

        अबारईज, जरांई, करांई, हनोज, अठैई, अठैईज, उठैई, ऊठैईज, इणीजंतर, ईणीतरै, उणीतरै, हमारईज

        उणीबगत, उणीजबगत, जरुर, अवशय,बेसक, इणसायत, ही, हकीकत में इत्यादि।

अनिश्‍चयवाचक

        कदीनकदी, कठैनकठै, जरांतरां इत्यादि।

संयुक्त

        करांई-करांई                बारबार                जैड़ो-तेड़ो                जरां-करांई

        जठै-तठै                जरांतरां        इसो-उसो                जठै-तठै

        कठैई-कठैईसैक                हालतांई        जठै-कठैई                कदैई-कदै

        कठैई-कठैई                कठांताई        जद-कद

266.        करांई करांई गुणवाचक संज्ञा पण क्रिया विशेषण हुजावै।

                यथा-         घोड़ानै धीर चलावो, रुंख सीदा लगावो, वो आछो चालै है, वो पादरो चालै है।

267.        “साथ, पूर्वक, सूं” इणांरा योग में संज्ञा विशेषण हुजावै।

                यथा- बेटा अकलरै साथ काम कर, राजा कनैं विनय पूर्वक जावणो, जो राजा बुद्धिसूं         काम करै वो सुख सूं राज करै।

268.        किताक क्रिया विशेषणां रै संज्ञारै जिऊं विभक्ति लगाई जावै है।

                यथा-  आजरो काम है कै कालरो, अठारी जमी आछी है, उठांसूं परबारो घरे जाईजै।

संबंध सूचक

269.         संबंध सूचक वो है जो दूजा शब्‍द अथवा वाक्‍यरै साथ संबंध व़तावै।

                यथा- राजारै अगाड़ी चोपदार चालै है।

270.        संबंधसूचक दोय प्रकाररो है।

  1. विभक्ति रहित
  2. विभक्ति सहित

                विभक्ति रहित                                विभक्ति सहित

                रहित                आगै                        साथ                तळै

                सहित                लारै                        साथे                तुल्‍य

                समेत                पछवाड़ै                        मांय                बरोबर

                सूधो                ऊपर                        बारै                मावो

                तांई                नीचै                        विषै                जींवणो

                पाछै                कनैं                        वदळै                विचमें

                                सिवाय                        विना                अगाड़ी

उपसर्ग

271.        नीचै लिखियोड़ा अव्‍यय शब्‍द क्रिया रो योग हुवै तो संस्‍कृत और भाषा में उपसर्ग कहीजैं।

                        यथा- प्रहार, आदान इत्यादि.

                प्र                अनु                दुस्                नि                सु                परि

                परा                अव                दुर्                अधि                उद्                उप

                अप                निस्                वि                अपि                अभि

                सम्                निर्                आङ्                अति                प्रति

272.        उपसर्ग धातुरै पैली लगाया जावै और उपसर्ग लगावणसूं धातुरो अर्थ व़दळ जावै।

                        यथा- “हार' रो अर्थ है हारणो अर्थात् लरजावणो, जिणरो उपसर्ग लगावण सूं इण         मुजब अर्थ व़दळै है।

                आहार, प्रहार, संहार, परिहार, विहार।

समुच्‍चायक

273.        जो शब्‍द दोय पद अथवा दोय वाक्‍यांरै व़िच में आवै वो समुच्‍चायक।

274.        समुच्‍चायक दोय प्रकाररो है।

  1. संयोजक
  2. विभाजक

275.        जो पद वा वाक्‍य नैं जोड़े वो संयोजक।

        यथा- राम और लक्ष्‍मण गया।

276.        जो पद वा वाक्‍य नैं न्यारो करै वो विभाजक।

        यथा- गाय माती है, पण दूध थोड़ो देवै है।

                संयोजक                                विभाजक

        और                फेर                        वा                किंतु

        एवं                यथा                        अथवा                चावै, चायै

        अथ                यदि                        कांई                जो

        क                अगर                        पण                नहींतौ

        तो                जो                        परंत

        पुनर्                जे                        परंतु

विस्‍मयादिबोधक

277.        जिण शब्‍द सूं मनरो भाव वा दशा आदि जाणी जावै वो विस्‍मयादिबोधक।

        यथा- हाय! हाय!! औ कैड़ो सूगलो है। आहा!!! परमेश्‍वर व़ड़ी कृपा करी।

278.        ओ तीन प्रकाररो है।

  1. पीड़ा बोधक
  2. आश्‍चर्य बोधक
  3. लज्‍जा वा अनादार बोधक।

पीड़ा बोधक- अहहह, आयरे, आह, ओयरे, हाय, हायहाय, त्रायत्राय, ओ, ऐ अरे इत्यादि।

आश्‍चर्य बोधक- वावा, धन्यधन्य, जयजय इत्यादि।

लज्‍जा व अनादर बोधक- छीछी, धिक, छी:, र्हं इत्यादि।

समास        

279.         विभक्ति सहित श्‍बद पद कहीजै।

280.        दोय आदि पंदारा मिलणानैं समास कैवै है।

281.        समास में विभक्ति छेला पदरीहिज रैवै, बाकीरा पंदारी विभक्तिरो लोप हुवै।

                        यथा  राजवाड़ी

        टिप्‍पण- अठै" राजरी व़ाड़ी" इसो विग्रह है सो छेली विभक्ति प्रथम तो रई है नै बारीकी         विभक्ति पष्‍ठी रो लोप हुवो है।

282.        समास छ: प्रकाररो है।

  1. कर्मधारय
  2. तत्पुरुष
  3. बहुब्रीहि
  4. द्विगु
  5. द्वंद्वं
  6. अव्‍ययीभाव

1.कर्मधारय

283.        कर्मधारय समास वो है जिण में  विशेषण और विशेष्‍य एकाधिकरणक हुवै।

                यथा- परमात्‍मा, महाराज इत्यादि.

        “परमात्‍मा इणरो विग्रह है "परम आत्‍मा" परम रो अर्थ है उत्‍कृष्‍ठ आत्‍मा। अठै विशेषण परम         औरविशेष्‍य आत्‍मा इणां  दोयांरो अधिकरण अर्थात् लिंग, वचन, विभक्ति एक है जिणसूं ओ         समास कर्मधारय है। इणीजतर महाराज में जांणो।

                                2.तत्‍पुरुष

284.        तत्‍पुरुष समास वो हे जिणरै पूर्व पद में प्रथमा विभक्ति विना अन्य विभक्ति हुवै, नै पर पद         प्रधान हुवै।

                यथा-प्रियवादी, शरणागत, हिमालय, जोधपुर, पुरुषोत्तम इत्यादि. "प्रियावादी" इणरो विग्रह         है "प्रिय प्रतिवादि" प्रियवादीरो अर्थ है। प्रियवचन कैवणवाळो। अठै पूर्द्व पद प्रिय में द्वितीया         विभक्ति है नै पर वादी ओ प्रधान है, जिणसूं प्एइयवादी ओ समास तत्पुरुष है। इणिजतरै         "शरणागत" इणरो विग्रह है "शरणे आगत"। “हिमालय” इणरो विग्रह है “हिमरो आलय “         “जोधपुर” इणरो विग्ह है जोधाजी रो पुर“ ‘पुरुषित्तम इणरो विग्रह है “पुरुषां में उत्तम“।

285.        बहुव्रीहि समास वो है जिण मेँ अन्य पदार्थ हुवै।

                        यथा- चतुर्भुज पीतांबर इत्‍यादि.

        ‘चतुर्भुज’ इणरो विग्रह है “चतुर है भुजा जिणरै वो” चतुर रो अर्थ है च्‍यार, भुजारो अर्थ है         बाहु। अठे न तो चतुर शब्‍द प्रधान है: किन्‍तु इणां दोनुं पदांसूं अन्य पदार्थ विष्‍णू प्रधान है         अर्थात् चतुर्भुज शब्‍द विष्‍णुरो वाचक है, जिणसूं ओ समास बहुव्रीहि है ‘पीतांबर” इनरो विग्रह         है ‘पीत है अंबर जिणरै वो” पीतरो अर्थ र्ह पीळा, अंबररो अर्थ है कपड़ा, पीतांबर इण रो अर्थ         है पीळा कपड़ांवाळो विष्‍णु।

  1. द्विगु

286.        द्विगु समास वो है जिण में पूर्व पद संख्‍या वाचक हुवै। ओ समास बहधा समाहार अर्थ में         आवै है।

                        यथा- त्रिफला, त्रिलोकी, पंचपात्र, पंचरत्‍न, नवरत्‍न इत्‍यादि.

        “त्रिफला" इणरो विग्रह है तीन फळांरो समूह" अठै पूर्व पद "त्रि" संख्‍यावाचक है और समूह         अर्थ है जिणसूं ओ समास द्विगु है। ' त्रिलोकी" इणरो विग्रह है "तीन लिकांरो समूह"।         "पंचरत्‍न" इणरो विग्रह है "पांच रत्‍नांरो समूह इणिजतरै नवरत्‍न में जाणो।

  1. द्वंद्व

287.        द्वंद्व समास वो है जिण मेँ दोय आदि पद "ओर" इण शब्‍द सूं जोड़िया जावे नेऔर शब्‍दरो         लिए हुवै।

                        यथा-रामलक्ष्‍मण, मातापिता, रातदिन इत्यादि.

        “रामलक्ष्‍मण" इणरो विग्रह है "राम और लक्ष्‍मण" अठै रामरै साथे लक्ष्‍मण ओ शब्‍द "और"         इण शब्‍द सूं जोड़ियो गयो है नै "और" शब्‍द रो लोप हुय गयो, जिणसूं ओ समास द्वंद्व हुवै         है। "मातापिता" इणरो विग्रह है "माता और पिता" । "रातदिन" इण रो विग्रह है "रात और         दिन"।

  1. अव्‍ययीभाव

288.        अव्‍ययीभाव समास वो है जिण में पद अव्‍यय हुवै। ओ समास क्रिया विशेषण रुप है।

                यथा- यथाशक्ति, निर्भय, प्रतिदिन, अनुरुप इत्यादि।

        “यथाशक्ति" इणरो विग्रह है "शक्ति नैं नहीं उल्‍लंघ कर यथारो अर्थ है नही उल्‍लंघ कर         यथारो अर्थ है नहीं उल्‍लंघ कर। यथाशक्ति रो अर्थ है सरहा मुजब। अठै पर्व पद "यथा'         अव्‍यय है, जिणसूं ओ समास अव्‍ययीभाव है। "निर्भय" इणरो विग्रह हैं "भयरो अभाव"         ”प्रतिदिन”  इणरो विग्रह है “दिन-दिन प्रति” जिणरो अर्थ है रोजीना। “अनुरुप” रो विग्रह है         रुपरै        योग्य।

                                वाक्य विचार

289.        वाक्य विचर वो है जिण में शब्‍दां सूं वाकय व़णावणरी रीति रो वर्णन है। पदांरो वो अमूह         वाक्य है, जिणराअंत में क्रिया रैयर उणरो अर्थ पूरो करै।वाक् में दूजो कारक हुवो, चायै मत         हुवो,  कर्त्ता और क्रिया तो जरुर चहीजै।

                यथा- राम है.

290.        वाक्य तीन प्रकार रा है।

  1. कतृप्रधान
  2. कर्मप्रधान
  3. भाव प्रधान

291.        जिण वाक्‍य में कर्ता प्रधान हुवै वो र्कतृप्रधान।

                यथा- राम रोटी खावै है।

        अठै कर्ता राम प्रधान है, क्‍यू कै क्रिया रा लिंग, वचनक, कर्ता रै अनुसार है, परन्तु कै आयाहां

        कै लावणो, सकणो ओर चूकणो इणां क्रिया वां सिवाय बाकी सारी सक्कमक धातुवारां         सामान्यभूत, पूर्णभूत, आसन्नभूत और संदिग्‍धभूत में कतृप्रधान वाक्‍य में पण क्रिया कर्म रै

        अनुसार हुवै।

                        यथा- छोरे व़ेत मारी।

292.        जिण वाक्य में कर्म प्रधान हुवै वो कर्म प्रधान।

                        यथा- रोटी खाईजै है।

        अठै कर्म रोटी प्रधान है : क्यूंकै क्रिया रा लिंग, वचन कर्म रै अनुसार है।

293.        कर्मप्रधान वाक्य में कर्ता आवै है, और नहीं पण आवै है। यदि कर्ता आवै तौ करणरा रुप में         (सूं) चिन्ह रै साथे आवै।

                        यथा- रामसूं रोटी खाईजै है।

294.        जिण वाक्य में क्रिया ईज प्रधान हुवै वो भाव प्रधान।

                        यथा- उणसूं चुप किणतरै रहीजै।

        अठै रहीजै आ क्रिया ईज प्रधान है, जिणसूं ओ वाक्य भाव प्रधान है।

295.        भाव प्रधान में क्रिया पुल्‍लिंग, अञ पुरुष, एकवचन हुवै: कारण धातुरो अर्थ भाव है, वो पुल्‍लिंग         और एक वचन है, तथा मध्‍यमपुरुष, उत्तमपुरुष, न होणासूं अन्य पुरुष है। भाव प्रधान वाक्य         में कर्ता करणारा रुप में "सूं" चि्ह रै साथ आवै।

                        यथा- उणसूं चुप किणतरै रहीजै।

296.        वाक्य में दोय अंश अवश्‍य हुवा करै है। उद्देशय और विधेय।

297.        जिणरा विषय में कयो जावै वो उद्देश्‍य और जो कयो जावै वो विधेय।

                        यथा- राम करै है। घोड़ो दौड़ै है।

        अठै पूर्व वाक्य में राम और उत्तर वाक्य वाक्य में घोड़ो उद्देश्‍य है, क्यूंकै राम और घोड़ारा         बारा में कयो गयो है। और विधेय पूर्व वाक्य में तो "करै है" और उत्तर वाक्य में "दोड़ै है"

        ऐ दोनुं क्रियावां है: क्यूंकै राम और घोड़ा रो उद्देश्‍य कर ईणांरो विधान है। तात्पर्य ओ है कै         जद वाक्य में कर्ता और क्रिया ऐ दोय ईज हुवै तौ कर्तस उद्देश्‍य और क्रिया विधेय है।

298.        परन्तु जद उद्देश्‍य और विधेय विशेषण लगायर व़धाय दिया जावै तो विशेषण सहित कर्ता         उद्देश्‍य और विशेषण सहित क्रिया विधेय है।

                        यथा- कमेत घोड़ो चोखो दोड़ै है।

        अठै "कमेत घोड़ो" ओ उद्देश्‍य और "चोखो दोड़ै है" ओ विधेय है।

299.         यदि कर्ता रो विशेषण  कर्तारै अगाड़ी और क्रिया रै पैली राखियो जावै तो कर्ता उद्देश्‍य और         कर्तारा विशेषण सहित क्रिया विधेय है।

                यथा- राईकाव़ागरो पांणि मीठो है।

        अठै पानी कर्ता और मीटौ कर्तारो विशेषण है, सो कर्ता "पांणी" रो उद्देश्‍य कर "मीठो है"। इसो

        विधान है।

300.        यदि एक क्रिया रा दोय कर्ता अथवा दोत कर्म हुवै और व आपस में विशेष्‍य विशेषण न         हूमकै तो पैली संज्ञा उद्देश्‍य और दूजी संज्ञा समेत क्रिया विधेय है।

                        यथा- लकड़ी सुळर खात हुगई।

        अठै "लकड़ी " और खात दोनुं कर्ता है, जिणां मांय पैली संज्ञा "लकड़ी" उद्देश्‍य है, और दूजी         संज्ञा खात इण समेत "हुगई" क्रिया विधेय है।

                        उण कँवरनै राजा करदो।

        अठै कँवर और राजा दोनुं कर्म है जिणां मांय सूं पैली संज्ञा "कँवर" उद्देश्‍य है, और दूजी संज्ञा

        राजा इण समेत "करदो" क्रिया विधेय है।

                                        

                                        पदयोजना

301.        वाक्य में पद जोड<णरी साधारण रीत आ है कै आदि मेँ कर्ता और अंत में क्रिया और         बाकीरा कारकांरो काम पड़ै तो दिनांरै व़िच में धरणा। परंत संबोधन सगळं सूं पैली धरणो।

        यथा- बालक कलमसूँ कागद लिखै है। आप राम नैं मेजसूं उतार उणरी किताब देदी। महाराज!

        आप घरमें रही जो, म्‍हारै काम है।

302.        कर्त्ता और क्रिया रै सिवाय जो कोई कारक, विशेषण अथवा अव्‍यय आदि धरणो पड़ै तो जो         पद जिणरै साथ संबंध राखै, वो पद उणरै कनैं धरणो।

        यथा- उदार आदमी रै वास्‍तै रुपयो कांकरा बराबर है। गिंवार आदमी सवाळखिया बळद जिसा         परिश्रमी हुवै है।

303.        विशेषण विशेष्‍य रै पैली, और क्रिया विशेषण क्रियारै पैलि आवै है।

        यथा- बुद्धिमान मनुष्‍य बौत कम लादै है। गोविंद आछीतरै पच़े है।

304.        पूर्व कालिक क्रिया उण क्रिया रै पैली धरणी जिण क्रिया सूं वाक्य पूरो हुवै।

        यथा- बालक ध्‍यान लगायर पड़ै हैं। घोड़ो उछळर टट्टी कूदै है।

305.        कविता में पूर्वोक्त नियम आवश्‍यक नहीं। यथा-

                                        सोरठा

                जे व्है हीयो हाथ, कूसंगी केता मिता।

                चनण भुजंगां साथ, काळो न लागै किसनिया !!1!!

306.        प्रश्‍नवाचक सर्वनाम उणरै कनै धरणौ, जिणरा विषय में प्रश्‍न हुवै। और यदि पूरोहीज प्रश्‍न        हुवै और यदि पूरो वाक्‍यहीज प्रश्‍न हुवै तो उणनैं आदि में धरणो।

        यथा- आ किसी पुस्‍तक है? कांई ओ वोही है? जिण नैं थे देखियो हो।

        पूर्व वाक्य में "किसी" ओ पद प्रश्‍नवाचक है। उत्तर वाक्य "कांई ओ वो ही है?” इ्त्ता पूरा         वाक्य सूं प्रश्‍न है।

307.        जिण वाक्य में प्रश्‍नवाचक शब्‍द नहीं हुवै उठै बोलणवाळारी चेष्‍टा सूं अथवा उणरा उच्चारण         स्‍वर सूं प्रश्‍न जाणियो जावै है।

                यथा- आप पधारिया हा? पछै वो आयो?

308.        यदि एक ही क्रिया रा अनेक कर्ता हुवै, और उणांरो लिंग एक नहीं हुवै तो क्रिया बहुवचन         और छेला कर्तारा लिंगरै अनुसार हुवै।

                यथा- घोड़ा, वळद और बकरियां चरती ही।

309.        असमान लिंग अनेक कर्ता और क्रियारै व़िच में यदि समुदाय वाचक शब्‍द आय जावै तो         क्रिया छेला कर्ता रै अनुसार नहीं हुवै: किन्तु पुल्लिंग हुवै।

                यथा- नर, नारी, राज, रांणी सारा बारै गया।

310.        वाक्य में अनेक कर्ता हूवे पण समुच्‍चायक सूं एक वचन जाणियो जावै तो क्रिया एक वचन         हुवै, और बहु वचन जाणीयो जावै तो क्रिया बहुवचन हुवै।

                यथा- वागर, कठोर, तबेलो और कचेड़ी फण ठीक है अठै "पण" ओ समुच्‍चायक एक         वचन रो बोध करावै हैं।

                        राम और श्‍याम आया।

        अठै "और"  इण समुच्‍चायक सूं बहुवचन रो बोध हुवै है।

311.        वाक्य में अनेक कर्ता हुवै और वैंरै व़िच में विभाजक शब्‍द आ जावै तो क्रिया एकवचन हुवै।

                यथा- महाराज आया, पंड़ित जी पधारिया।

312.        वाक्य में अनेक कर्ता हुवै और वैंरै व़िच में विभाजक शब्‍द आ जावै तो क्रिया  एकवचन         हुवै।

                यथा- आज भाई अथवा हूँ  जाऊंला।

313.        यदि एक क्रिया रा उत्तम, मध्‍यम अन्य पुरुष अनेक कर्ता हुवै त क्रिया उत्तमपुरुष हुवै।

                यथा- भाई, तूं और हूं जावांला।

314.        यदि एक क्रिया रा मध्‍यम और अन्य पुरुष अनेक कर्ता हुवै तो क्रिया मध्‍यमपुरुष हुवै।

                यथा- वो और तूं जावो।

                                        विशेष्‍य विशेषण

315.        वाक्य में जो प्रधान संज्ञा हुवै वो विशेष्‍य। और जो उणरो गुण व़तावै वो विशेषण।

                यथा- राम विद्धान है।

        अठै "राम' प्रधान संज्ञा है, जिण सूं 'राम' विशेष्‍य औरे "विद्धान "  औ शब्‍द रामरो गुण व़तावै         है जिणसूं "विद्धान" रामरो विशरषण है।

316.        कठेई- कठेई प्रधान संज्ञा विना अकेलो विशेषण पण आ जाया करै है, उठै प्रधान संज्ञा रो         अध्‍याहार कर लेवणो अर्थात् प्रधान संज्ञा ऊपरसूँ समज लेवणी।

                यथा- धनी सुखी है।

        अठै "धनी" इण विशेषण रो विशेष्‍य आदमी है दो विशेष्‍य आदमी विना आयो है पंरत         आदमीरो अध्‍याहार हुवै।

317.        जद विशेषण विशेष्‍यरै साथे आवै तो विशेषण रै विभक्ति नहीं लगाई जावै: परन्‍तु प्रधान         संज्ञा विना अकेलो विशेषण आवै जठै विशेषणरै विभक्ति लगाई जावै।

        

                यथा- धुनवान् आदमियांनैं सुख है, धनवानां नैं सेउख हैं।

318.          ओकारांत विशेषण विशेष्‍यरै साथै आवै तो कर्तारा एक वचन विना बाकी सर्वत्र पुल्‍लिंग में         “ओ” नैं “आ’ और स्‍त्रीलिंग में कर्तारा एक वचन में पण “ओ” नैं “ई” हुवै। और पुल्‍लिंग में         कर्तारा दूजा रुपरा विशेषण रा “ओ” नैं “ए’ आदेश हुवै।

यथा-काळो घोड़ो हवारा जिंउ जाय है। काळा घोड़ा नैँ दोड़ावो। पीळी घोड़ी व़ड़ी सैतान है। पीळी घोड़ी नैं दोड़ावो। काळे घोड़े लात मारी।

319.          विशेषण वाचक “ओ” शब्‍द विशेष्‍यरै साथ आवै जठै कर्तारा एक वचनरा पैला रुपनैं छोड         कर बाकी सर्वत्र एक वचन में “ओ” शब्‍द नैं “इण” आदेश हुवै, और बहुवचन में “इणां” “यां”         और “ऐ’ अदेश हुवै, और कर्तारा बहुवचन में “ऐ” आदेश पन हुवै।

यथा- ओ घोड़ो जावै है। इन घोड़ानैं जावण दो। इणां अथवा ऐं घोड़ांनैं जावणदो। ओ घोड़ा जावै है।

320.        वाक्य व़णावती वगत आसत्ति, योग्यता और आकांक्षा इणां तीन व़ातांरो व़डो ध्‍यान राखणो         चहिजै। क्यूंकै इणां विना वाक्य व़णै नहीं।

321.        पदांरो नजीक हुवणो सो आसत्ति।

        आसत्ति विना वाक्य व़णतो हुवै तो प्रभारा उच्चारण कीयोड़ा "राम" इण पद सूं सिंज्यारा         उच्चारण कीयोड़ी "जावै है" इण क्रिया सूं वाक्य व़णणौ चहीजै: सो व़णै नहीं है।

322.        पदांरो परस्‍पर अन्‍वय हुवण में जो अर्थ ज्ञान हुवणरी उचितता सो योग्यता।

        योग्यता विना वाक्य व़णतो हुवै तो "अग्नि सूं सींचै है" ओ वाक्य व़णणो चहीजै, सो नहीं व़णै         है।

323.        एक पदरी दूजा पदरै साथै अन्‍वयरी जो चाय सो आकांक्षा।

        आकांक्षा विना वाक्य व़णतो हुवै तो "घोड़ो" ओ अकेलो पद वाक्य हुवणो चहीजै, सो नहीं है।          वाक्य तो "जावै है" इत्‍यादि क्रिया आवणसूं ही व़णै है।

                                        पदसाधन

324.        पद साधन करती बगत पैली संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण, क्रिया और अव्‍यय इणां पांचूं शब्‍द भेदां         नैं पिछांण, पछै संज्ञा आदिरो नीचै लिखिया मुजब पदसाधन करणो।

        संज्ञा- 1. संज्ञा 2. भेद 3. लिंग 4. वचन 5. कारक 6. कर्ता वा कर्म हुवै तो किण क्रियारो।

        सर्वनाम- 1. सर्वनाम 2. भेद 3. लिंग 4. वचन 5. पुरुष 6. कारक 7. कर्ता वा कर्म हुवै तो किण         क्रिया रो 8. प्रतिनिधि किणरो।

        विशेषण- 1. विशेषण 2. भेद 3. इणरो विशेष्‍य कुछ है।

        क्रिया-  1. क्रिया 2. भेद 3. लिंग 4. वचन 5. पुरुष 6. काळ 7. किसी क्रिया 8. किणरी क्रिया 9.                 कर्म कुण।  

        अव्‍यय- 1. अव्‍यय 2. भेद 3. प्रभेद

                                        उदाहरण

सोरठा

                पर कर मेरु प्रमांण, आप रैवै रज कण जिसा !

                वेह पुरुष धिन जांण, इण जगमांहे राजियां !!1!!

        पर- 1. संज्ञा 2. गुणवाचक 3. पुल्‍लिंग 4. एकवचन 5. कर्म कारक इणरो विशेष्‍य मनुष्‍य                         अध्‍ययह्रत है।

        कर- 1. क्रिया 2. कतृवाच्‍य 3. पुल्‍लिंग 4. बहुवचन 5. अन्यपुरुष 6. संभावना 7. सकर्मक 8. कर्ता                 जो अध्‍याह्रत9. कर्म"पर"

        मेरु- 1.संज्ञा 2. व्‍यक्तिवाचक 3. पुल्‍लिंग 4.  एकवचन 5.  संबंध सूचक "प्रमांण"

        प्रमांण- 1. विशेषण 2. गुणवाचक 3. इणरो विशेष्‍य "पर"

        आप- 1. सर्वनाम 2. आदरवाचक 3. पुल्‍लिंग 4. बहुवचन 5. विशेषण 6. इणरो विशेष्‍य जो                         अध्‍याह्रत ।

        रवै- 1. क्रिया  2. कतृवाच्‍य 3. पुल्‍लिंग 4. बहुवचन 5. अन्य पुरुष 6. संभावना 7. अकर्मक 8.                 कर्ता "आप"

        रजकण- 1. संज्ञा 2. जातिवाचक 3. पुल्‍लिंग 4. एकवचन 5. संबंध 6. संबंध सूचक "जिसा" 7.                 तत्पुरुष समास।

        जिसा- 1. सर्वनाम 2. प्रकारावाचक 3. विशेषण 4. विशेष्‍य "आप"

        वेह- 1. सर्वनाम 2. संबंधवाचक 3. पल्‍लिंग 4. बहुवचन 5. कर्म 6. विशेषण 7. इणरो विशेष्‍य                 'पुरुष"

        पुरुष- 1. संज्ञा 2. जातिवाचक 3. पुल्‍लिंग 4. बहुवचन 5. कर्म 6. “जांण" इन क्रिया रो

         धिन- 1. विशेषण 2. गुणवाचक 3. इणरो विशेष्‍य "पुरुष"

        जांण- 1. क्रिया 2. कर्तवाच्‍य 3. पुल्‍लिंग 4. एकवचन 5. मध्‍यमपुरुष 6. विधिक्रिया 7. सकर्मक 8.                 इणरो कर्ता "तूं अध्‍याह्रत" 9. कर्म "पुरुष"

        इण- 1. सर्वनाम 2. निश्‍चयवाचक 3. विशेषण 4. इणरो विशेष्‍य "जग"

        जगमांहे- 1. संज्ञा 2. जातिवाचक 3. पुल्‍लिंग 4. एकवचन 5. अधिकरण

        राजिया- 1. संज्ञा 2. व्‍यक्तिवाचक 3. पुल्‍लिंग 4. एकवचन 5. कर्ता कवै है इण अध्‍याह्रत क्रिया

                रो।        

        इति श्री दाधीच आसोपा पंड़ित ब्देवात्‍मज पंडित रामकरणशर्मणा विरचितं मारवाड़ी व्‍याकरणं

        समाप्तम्।

                                        इति।